Home /News /uttarakhand /

अटल उत्कृष्ट विद्यालय योजना से बच्चों के सपनों को लगेंगे पंख, 190 स्कूलों के चयन ने पकड़ी रफ्तार

अटल उत्कृष्ट विद्यालय योजना से बच्चों के सपनों को लगेंगे पंख, 190 स्कूलों के चयन ने पकड़ी रफ्तार

पूर्व शिक्षा मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने सरकार की मंशा पर 
उठाये सवाल

पूर्व शिक्षा मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने सरकार की मंशा पर उठाये सवाल

स्कूल का मुद्दा पॉलिटिकल एजेंडा बनते हुए बीजेपी (BJP) या कांग्रेस (Congress) किसके पक्ष में वोट बैंक जुटाएगा, ये भविष्य की बात है लेकिन उससे पहले उन बच्चों के सपनो को जरूर पंख मिलेंगे जो अंग्रेजी मीडियम (English Medium) स्कूल में पढ़ने का सपना देख रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...
देहरादून. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने सरकारी स्कूलों के बच्चों को भी प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर अंग्रेजी माध्यम (English Medium) में शिक्षा दिए जाने के प्रस्ताव को अमलीजामा देने का काम शुरू कर दिया है. पूरे प्रदेश में 190 इंग्लिश मीडियम स्कूल खुलने जा रहे हैं जिनमें पढ़ने पढ़ाने का काम 1 अप्रैल 2021 से शुरू करने की सरकार की मंशा है.

स्कूलों का चयन, बच्चों की संख्या और टीचर्स की आवश्यकता की डिटेल शासन को भेज दी गई है. इसके साथ ही सीबीएसई (CBSE) की तर्ज पर इन स्कूलों को संचालित करने से लेकर मान्यता का काम किस तरह से किया जायेगा, इस पर भी प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है. अब शासन की स्वीकृति के बाद अगले साल तक स्कूल संचालित भी होने शुरु हो जाएंगे. सरकार द्वारा अटल उत्कृष्ट विद्यालय योजना (Atal Excellent School Scheme) को लागू करने का जिम्मा नोडल अधिकारी (Nodal Officer) बनाये गए मुकुल कुमार सती को दिया गया है. वो बताते हैं कि स्कूल का प्रपोजल तैयार है और शासन को स्वीकृति के लिए भेजा गया है.

ये भी पढ़ें- COVID-19 से बैंड बाजा कारोबारी भी परेशान, बग्घी के घोड़ों को बेचने का किया फैसला

कांग्रेस ने स्कूलों के चयन पर उठाया सवाल
एक ओर जहां सरकार अगले साल तक स्कूलों को चालू करने में जोर-शोर से लगी है वहीं कांग्रेस को सिर्फ 190 स्कूलों के खुलने पर आपत्ति है. कांग्रेस अटल उत्कृष्ट विद्यालय योजना को लेकर बाकी स्कूलों की व्यवस्था पर भी लगातार सवाल उठा रही है. पूर्व शिक्षा मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी ने सरकार की मंशा पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि इन स्कूलों को बिना किसी क्राइटेरिया के इस प्रकार पिक एंड चूज (Pick and choose) करना सही नहीं है. बीजेपी इसे केवल विपक्ष का हर काम में रोड़ा अटकाने का काम मान रही है. बीजेपी उपाध्यक्ष देवेंद्र भसीन कहते है कि बीजेपी के दृष्टि पत्र में जो वादे थे हम बस उसे पूरा करने का काम कर रहे हैं.

बहरहाल, स्कूल का मुद्दा पॉलिटिकल एजेंडा बनते हुए बीजेपी या कांग्रेस, किसके पक्ष में वोट बैंक जुटाएगा, ये भविष्य की बात है लेकिन उससे पहले उन बच्चों के सपनो को जरूर पंख मिलेंगे जो अंग्रेजी स्कूल में पढ़ने का सपना देख रहे हैं.

Tags: BJP, Congress, English Learning, Uttarakhand Government, Uttrakhand

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर