उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से भूस्खलन, नैनीताल में ढहा 5 मंजिला मकान

उत्तराखंड में भारी बारिश के कारण बदरीनाथ हाईवे बंद होने के दौरान सड़क पर वाहनों की लंबी कतार लग गई. वहीं, बारिश में हुए भूस्खलन से नैनीताल में 5 मंजिला भवन ध्वस्त हो गया.

News18 Uttarakhand
Updated: July 14, 2019, 8:18 AM IST
उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से भूस्खलन, नैनीताल में ढहा 5 मंजिला मकान
उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश से भूस्खलन, नैनीताल में ढहा 5 मंजिला मकान
News18 Uttarakhand
Updated: July 14, 2019, 8:18 AM IST
उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश के कारण भूस्खलन से चारधाम यात्रा मार्ग बार-बार बंद हो रहा है. इस कारण बदरीनाथ और केदारनाथ जाने वाले यात्री जगह-जगह फंस गए हैं. बता दें कि भारी बारिश के कारण बदरीनाथ हाईवे बंद होने के दौरान सड़क पर वाहनों की लंबी कतार लग गई. हालांकि, बाद में हाईवे पर यातायात शुरू कर दी गई. वहीं, इस बारिश में हुए भूस्खलन से नैनीताल में 5 मंजिला एक भवन ध्वस्त हो गया. गनीमत यह रही कि इस मकान में कोई नहीं था.

अगले 24 घंटे भारी बारिश की संभावना



अगले 24 घंटे भारी बारिश की संभावना


मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि आने वाले 24 घंटे में नैनीताल, उधम सिंह नगर, पौड़ी, देहरादून और हरिद्वार में भारी बारिश की संभावना बनी रहेगी. बता दें कि आधी रात के बाद से उत्तराखंड के कई जिलों में बारिश का सिलसिला सुबह तक जारी रहा. मिली जानकारी के मुताबिक केदानाथ और गंगोत्री यात्रा मार्ग खुली हुई हैं, जबकि डाबरकोट के पास भूस्खलन से बंद हुआ यमुनोत्री हाईवे सुबह चालू किया गया. वहीं, चमोली में बदरीनाथ हाईवे पर लामबगड में आए मलबे को भी हटा दिया गया है.

जाम-traffic jam
भारी बारिश और भूस्खलन के चलते फंसी गाड़ियां


इधर, चमोली जनपद में पीपलकोटी के सेमलडाला नाले में उफान के चलते सुबह यातायात बाधित हो गया. यहां कई वाहन फंस गए. हालांकि स्थानीय यात्रियों ने किसी तरह भागकर जान बचाई. वहीं कुमाऊं के नैनीताल अल्मोड़ा में भी रुक-रुक कर तेज बारिश हो रही है.

खतरे के निशान पर बह रही गंगा
Loading...

बता दें कि पिछले 24 घंटों के दौरान हुई बारिश से नदी-नालों का जलस्तर बढ़ गया है. हरिद्वार में गंगा चेतावनी रेखा के आसपास बह रही है. सुबह गंगा का जल स्तर 291.40 मीटर रेकॉर्ड किया गया. यहां चेतावनी रेखा 292 मीटर और खतरे का निशान 293 मीटर पर है.

राजस्थान के सीमांत इलाकों से तेज हवा के साथ उड़कर आ रही मिट्टी

इधर, मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून का मानना है कि राजस्थान के सीमांत इलाकों से तेज हवा के साथ मिट्टी उड़कर आगे आ रही है, जो उत्तर भारत के कुछ इलाकों में सक्रिय मानसून की बारिश के साथ ठंडी होकर नीचे गिर रही है. बता दें कि दून का अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 31.6 है जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 24.1 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया है. मसूरी में शुक्रवार को अधिकतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 24.0 व न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 27.3 डिग्री सेल्सियस रहा.

ये भी पढ़ें:- प्रदेश में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त 

ये भी पढ़ें:- पंचायत चुनाव में भी कांग्रेस की बल्ले-बल्ले रहेगी: हरीश रावत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...