लाइव टीवी

सेवाएं समाप्त होने के बाद नरम पड़ी आंगनबाड़ी वर्कर्स, सीएम से आश्वासन के बाद आंदोलन खत्म
Dehradun News in Hindi

Bharti Saklani | News18 Uttarakhand
Updated: February 4, 2020, 6:04 PM IST
सेवाएं समाप्त होने के बाद नरम पड़ी आंगनबाड़ी वर्कर्स, सीएम से आश्वासन के बाद आंदोलन खत्म
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की प्रदेश अध्यक्ष रेखा नेगी ने कहा कि 10 फरवरी तक सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रिजॉयन कर लेंगी.

पिछले 2 महीने से सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मानदेय बढ़ाने, राज्य कर्मचारी घोषित करने और अन्य मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थीं.

  • Share this:
देहरादून. आखिर 60 दिन से चल रहा आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का आंदोलन सीएम त्रिवेंद्र रावत के दखल के बाद खत्म हो गया. महिला बाल विकास विभाग की तरफ से 300 से ज़्यादा आंगनबाड़ी वर्कर्स की सेवाएं समाप्त करने के बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी नरम पड़ीं और सीएम की तरफ़ से आश्वासन मिलने के बाद आंदोलन स्थगित कर दिया गया. सीएम के प्रतिनिधि के रूप में देहरादून के मेयर ने 10 मार्च तक एक कमेटी बनाने का आश्वासन दिया, जो मानदेय बढ़ाने पर विचार करेगी.

बहाली का आश्वासन

देहरादून के मेयर सुनील गामा और महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट ने धरना और अनशन खत्म करवाया. बर्खास्त आंगनबाड़ी वर्कर्स की बहाली का भी आश्वासन दिया गया. इसके बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की प्रदेश अध्यक्ष रेखा नेगी ने कहा कि 10 फरवरी तक सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रिजॉयन कर लेंगी.

इससे पहले सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, तो मंगलवार सुबह कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मामले पर बात की. आंदोलन का असर ऐसा था कि पिछले 60 दिन से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के आंदोलन के चलते टेक होम राशन वितरण योजना प्रभावित हो रही थी.

aaganbadi workers, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की प्रदेश अध्यक्ष रेखा नेगी ने कहा कि 10 फरवरी तक सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रिजॉयन कर लेंगी.
पिछले 60 दिन से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के आंदोलन के चलते टेक होम राशन वितरण योजना प्रभावित हो रही थी.


आंगनबाड़ी केंद्रों पर असर 

दरअसल हर महीने की 5 तारीख से आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती, धात्री और तीन महीने से 6 साल तक के बच्चों को टेक होम राशन का वितरण शुरू हो जाता है. पिछले 2 महीने से सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मानदेय बढ़ाने, राज्य कर्मचारी घोषित करने और अन्य मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर थीं. इसकी वजह से प्रदेश भर में आंगनबाड़ी केंद्रों से टेक होम राशन योजना के वितरण नहीं हो पा रहा था.ज्यादातर आंगनबाड़ी केंद्रों पर आंदोलन का असर नजर आ रहा था. इसके बाद महिला बाल विकास विभाग ने प्रदेश भर में लम्बे समय से अनुपस्थित चल रही कार्यकर्ताओं की सेवाएं समाप्त कर दी थीं. हांलाकि इसे लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के आंदोलन की अध्यक्षता कर रही रेखा नेगी ने काफी विरोध भी किया मगर सरकार का रुख मामले में साफ़ रहा.

बच्चों और महिलाओं को हो रही असुविधा को देखते हुए सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को काम पर लौटने को कहा और न मानने पर सेवाएं समाप्त कर दीं. अब कमेटी बनाने के आश्वासन के बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ता काम पर लौटने को तैयार हैं यानी अब फ़िलहाल खत्म.

ये भी देखें: 

हर महीने करीब चार लाख मिलते हैं रेखा आर्य को, 5 साल में 3 गुना से ज़्यादा बढ़ी है संपत्ति

‘एक दिन हमारा काम करके दिखा दें मंत्री रेखा आर्य, आंदोलन ख़त्म कर लौट जाएंगे’

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 5:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर