डेढ़ साल में ही बोल गया देहरादून का अजबपुर फ़्लाइओवर... अप्रोच रोड धंसी, पुल पर खतरा

अजबपुर फ़्लाइओवर का मार्च, 2019 में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उद्घाटन किया था.

एनएच अधिकारियों का कहना है कि जल निगम की लापरवाही के कारण इस फ्लाईओवर में धंसाव हो रहा है.

  • Share this:
    देहरादून-हरिद्वार बायपास पर 50 करोड़ रुपये से ज़्यादा में बने 825 मीटर लंबे अजबपुर फ्लाई ओवर में धंसाव होने लगा है. फ्लाईओवर की हरिद्वार साइड की 143 मीटर लंबी एप्रोच रोड का करीब 120 मीटर हिस्सा धंस गया है. इससे बरसात के इस मौसम में फ्लाई ओवर को भी खतरा पैदा हो गया है. धंसाव वाले हिस्से की तरफ़ बैरिकेडिंग कर फ़िलहाल ट्रैफिक बंद कर दिया गया है. एप्रोच रोड धंसने की सूचना मिलते ही PWD के एनएच खंड के अधिकारियों में हड़कंप मच गया, चिंता इसलिए भी ज़्यादा है कि पिछले साल मार्च में ही मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इसका उद्घाटन किया था यानी कि डेढ़ साल में यह पुल डगमगाने लगा है.

    सीवर लाइन में रिसाव से हुआ

    अजबपुर पुल की अप्रोच रोड धंसने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे एनएच के अधिकारियों ने इसका ठीकरा जल निगम पर फोड़ा है. एनएच अधिकारियों का कहना है कि जल निगम की लापरवाही के कारण इस फ्लाईओवर में धंसाव हो रहा है.

    दरअसल जल निगम एप्रोच रोड के नीचे अंडर ग्राउंड सीवर लाइन डाल रहा है. इसके लिए चार सेंटीमीटर गोलाई में रोड़ काटी जा रही है. मौके पर पहुंचे एनएच के सहायक अभियंता प्रवीन सक्सेना का कहना है कि बरसात में जल निगम द्वारा बिना परमिशन रोड काटकर सीवर लाइन बिछाने के कारण पानी का रिसाव होने से एप्रोच रोड में धंसाव शुरू हुआ है.

    विधायक के दबाव में बिना अनुमति शुरु किया काम!

    न्यूज़ 18 को यह भी पता चला है कि जल निगम अमृत योजना के तहत सालों से सीवर लाइन बिछा रहा है. इस लाइन को फ्लाईओवर बनने से पहले, 2016 में ही बिछाया जाना था, लेकिन काम की सुस्त रप्तार के कारण ऐसा नहीं हो पाया. 2018 में फ्लाई ओवर भी बनकर तैयार हो गया था लेकिन सीवर लाइन नहीं डाली गई.

    अब सीवर लाइन को फ्लाई ओवर की एप्रेाच रोड के नीचे बनाया जाना है. न्यूज 18 के हाथ लगे पत्र के मुताबिक जल निगम के अधिशासी अभियंता सुमित आनंद ने 28 जुलाई को अधिशासी अभियंता एनएच खंड लोनिवि को पत्र लिखकर इसकी परमिशन मांगी थी, इसमें कहा गया था कि मात्र दस दिन के भीतर सीवर लाइन बिछा दी जाएगी.  यह भी दावा किया गया था कि इससे यातायात में कोई अवरोध भी नहीं होगा लेकिन, बरसात के कारण एनएच के अधिकारियों ने अनुमति देने से इनकार कर दिया था.

    सूत्रों की माने तो सत्ताधारी दल के एक विधायक के दबाव में जल निगम ने बिना परमिशन सीवर लाइन बिछाने का काम शुरू कर दिया और इसका नतीजा निकला कि दूसरे ही दिन फ्लाई ओवर की एप्रोच रोड धंस गई और अब पुल पर भी खतरा पैदा हो गया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.