3 दिन बाद खुल जाएंगे सभी चार धाम,17 मई के बाद क्या यात्रा शुरू करेगी सरकार?
Dehradun News in Hindi

3 दिन बाद खुल जाएंगे सभी चार धाम,17 मई के बाद क्या यात्रा शुरू करेगी सरकार?
17 मई को लॉकडाउन का थर्ड फेज खत्म होने के बाद चारधाम यात्रा रूट से लेकर टूरिस्ट स्पॉट्स में कारोबारियों को राहत मिल सकती है. (फाइल फोटो)

चारधाम यात्रा मार्ग से लेकर मसूरी और नैनीताल (Nainital) में कारोबारी यात्रियों का इंतज़ार कर रहे हैं, लेकिन कोरोना के डर से यात्री गायब हैं.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में कोरोना की सबसे बड़ी मार टूरिज्म सेक्टर (Tourism sector) पर पड़ी है. आम तौर पर मई-जून के महीने में टूरिस्ट से उत्तराखंड (Uttarakhand) गुलज़ार रहता था, लेकिन इस बार कोरोना से कारोबार ठप है. चारधाम यात्रा मार्ग से लेकर मसूरी और नैनीताल में कारोबारी यात्रियों का इंतज़ार कर रहे हैं, लेकिन कोरोना के डर से यात्री गायब हैं. वहीं, रही सही कसर लॉकडाउन (Lockdown) ने पूरी कर दी है. इसी बीच  खबर आई है कि 17 मई को लॉकडाउन का थर्ड फेज खत्म होने के बाद चारधाम यात्रा रूट से लेकर टूरिस्ट स्पॉट्स में कारोबारियों को राहत मिल सकती है.

मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की मंत्रियों के साथ सोमवार को हुई बैठक में ये मुद्दा उठा और केंद्र से इस मामले में राहत की मांग की गई .बैठक के बाद सरकारी प्रवक्ता मदन कौशिक ने बताया कि केंद्र के सामने रखे जा रहे प्रस्ताव में इस बात पर चर्चा हुई कि चारधाम में यात्रा की शुरुआत की जाए, ताकि कामकाज शुरू हो सके. वहीं,  ये भी मुद्दा उठा कि मई-जून में पर्यटन कारोबार पीक पर होता है. ऐसे में फिलहाल उत्तराखंड के यात्रियों और टूरिस्ट के लिए ही सही काम शुरू किया जाए.

दूसरे राज्यों से यात्रियों की एंट्री फिलहाल मुश्किल
उत्तराखंड में 17 मई के बाद सरकार ने भले की चारधाम यात्रा शुरू करने का प्लान बनाया हो, लेकिन काम आसान नहीं है. यात्रा शुरू करने के लिए केंद्र सरकार की परमिशन ज़रूरी होगी. अगर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ उत्तराखंड के यात्रियों को दर्शन की परमिशन मिल भी गई तो दूसरे राज्य से आने वाले श्रद्धालुओं को अभी इंतज़ार करना होगा.
चारधाम में जिन राज्यों से लोग आते हैं वहां कोरोना ने मुश्किल बढ़ा रखी है. फिर चाहे गुजरात हो, महाराष्ट्र हो, पश्चिम बंगाल हो, राजस्थान हो या फिर उत्तरप्रदेश हो. हर राज्य कोरोना से जंग लड़ रहा है. ऐसे में चारधाम यात्रा खुल जाने से भी यात्री आ नहीं सकेंगे. वहीं, दूसरे राज्यों से पब्लिक ट्रांसपोर्ट की एंट्री जल्द हो पाएगी ऐसा दिखता नहीं है.



साल 2019 में चारधाम आए 32 लाख श्रद्धालु
उत्तराखंड सरकार भले ही चाहती हो कि चारधाम यात्रा को शुरू किया जाए लेकिन यात्रियों की संख्या लिमिटेड ही रहेगी. पिछले साल की बात करें तो देशभर से करीब 32 लाख श्रद्धालुओं ने बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के दर्शन किए. लेकिन इस बार एक लाख का आंकड़ा छूना भी बड़ी सफलता माना जायेगा, क्योंकि कोरोना के हालात को देखते हुए लगता है कि चारधाम यात्रा शुरू करना और फिर यात्रियों का आना बड़ा चैलेंज है.

ये भी पढ़ें- 

कंस्ट्रक्शन से जुड़े 40000 मजदूरों के खाते में इतने रुपये देगी केजरीवाल सरकार

दिल्ली-NCR की धारावी न बन जाए खोड़ा इसलिए यूपी सरकार ने उठाए ये बड़े कदम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज