उत्तराखंड: एम्स में भर्ती हुई कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज की COVID-19 पॉजिटिव पत्नी
Dehradun News in Hindi

उत्तराखंड: एम्स में भर्ती हुई कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज की COVID-19 पॉजिटिव पत्नी
उत्तराखंड (Uttarakhand) सरकार के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज (Satpal Maharaj) की पत्नी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से शासन से सरकार तक हड़कंप मच गया क्योंकि महाराज ने शुक्रवार को कैबिनेट मीटिंग ज्वाइन की थी, जिसमें सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत सभी मंत्री और अधिकारी मौजूद थे.

उत्तराखंड (Uttarakhand) सरकार के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज (Satpal Maharaj) की पत्नी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने से शासन से सरकार तक हड़कंप मच गया क्योंकि महाराज ने शुक्रवार को कैबिनेट मीटिंग ज्वाइन की थी, जिसमें सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत सभी मंत्री और अधिकारी मौजूद थे.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) में कोविड-19 (COVID-19) लगातार बढ़ता जा रहा है. कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज (Satpal Maharaj) की पत्नी का कोरोना सैंपल शनिवार को पॉजिटिव पाया गया. उन्हें रविवार सुबह हेल्थ डिपार्टमेंट की एम्बुलेंस से एम्स ऋषिकेश में एडमिट कर दिया गया है.

उनकी पत्नी के कोरोना पॉजिटिव निकलते ही उत्तराखंड में शासन से लेकर सरकार तक सब में हड़कंप मच गया क्योंकि सतपाल महाराज ने इस दौरान शुक्रवार को कैबिनेट मीटिंग भी ज्वाइन की थी. इसमें सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत सभी मंत्री और मुख्य सचिव समेत शासन के सभी आला अधिकारी मौजूद थे. यही नहीं सतपाल महाराज ने कैबिनेट के बाद पर्यटन विभाग के अधिकारियों की भी मीटिंग ली थी, इससे सभी की सांसें अटक गई हैं.

स्टाफ को किया जा रहा है इंस्टीट्यूशनल क्वारन्टीन
महाराज की पत्नी की ट्रैवल हिस्ट्री दिल्ली की बताई जा रही है. उनकी फर्स्ट कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में मंत्री सतपाल महाराज समेत 41 लोगों की सूची सामने आई है. एक प्राइवेट लैब द्वारा सतपाल महाराज समेत समस्त स्टाफ के सैम्पल लिए गए हैं. अब सभी को इंस्टीट्यूशनल क्वारन्टीन किया जा रहा है. अब शासन से लेकर सरकार तक सभी की नजर मंत्री सतपाल महाराज के कोरोना सैम्पल रिपोर्ट पर टिकी हुई है. उम्मीद जताई जा रही है कि देर शाम तक मंत्री की सैम्पल रिपोर्ट सामने आ जाएगी.



आखिरकार हंस फाउंडेशन की एम्बुलेंस से ही जाना पड़ा


सतपाल महाराज के बड़े भाई भोले महाराज हंस फाउंडेशन नाम से एक संस्था चलाते हैं. भोले महाराज और सतपाल महाराज का आपस में 36 का आंकड़ा है. लेकिन, जब सतपाल महाराज की पत्नी एम्स के लिए गई तो घर के बाहर भोले महाराज की संस्था हंस फाउंडेशन की एम्बुलेंस खड़ी थी. दरअसल, हंस फाउंडेशन मेडिकल क्षेत्र में भी काम करता है. फाउंडेशन की ओर से अस्पतालों को दर्जनों एम्बुलेंस दान की गई हैं. इन्हीं में से एक एम्बुलेंस ये भी थी.

ये भी पढ़ें - 

युवती को बंधक बनाकर 2 महीने तक सामूहिक दुष्कर्म, 1.5 लाख ₹ में बेचने का आरोप

अब बिना पास जा सकते हैं दिल्ली से नोएडा और गुरुग्राम, ये है गाइडलाइन
First published: May 31, 2020, 11:59 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading