अनुराग शंखधर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में, छात्रवृत्ति घोटाले में कुछ और गिरफ़्तारियां जल्द

एसआईटी के राडार पर अब समाज कल्याण विभाग के अधिकारी और कर्मचारी भी हैं. देहरादून के नामी कॉलेज संचालकों की गिरफ्तारी भी जल्द हो सकती है.

Avnish Pal | News18 Uttarakhand
Updated: May 17, 2019, 7:56 PM IST
अनुराग शंखधर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में, छात्रवृत्ति घोटाले में कुछ और गिरफ़्तारियां जल्द
अनुराग शंखधर को एसआईटी ने विशेष सीबीेआई कोर्ट में पेश किया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.
Avnish Pal | News18 Uttarakhand
Updated: May 17, 2019, 7:56 PM IST
उत्तराखंड के बड़े घोटालों में से एक समाज कल्याण विभाग में हुए छात्रवृत्ति घोटाले की जांच के लिए बनी एसआईटी ने अनुसूचित जनजाति आयोग के उपनिदेशक अनुराग शंखधर को आज देहरादून की सीबीआई कोर्ट में पेश किया. कोर्ट ने शंखधर को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. शंखधर को गुरुवार को एसआईटी ने गिरफ़्तार किया था.

छात्रवृत्ति घोटाला: याचिकाकर्ता ने सीबीआई जांच की मांग की

देहरादून और हरिद्वार के पूर्व ज़िला समाज कल्याण अधिकारी अनुराग शंखधर पर नियमों के खिलाफ सीधे निजी शिक्षण संस्थाओं के बैंक खातों में छात्रवृत्ति की रकम ट्रांस्फ़र करने और छात्र-छात्राओं का सत्यापन न कराने जैसे गंभीर आरोप हैं. शंखधर तीन नोटिस जारी होने के बाद भी एसआईटी के सामने पेश होने से बचते रहे थे. उन्हें पहले से अपनी गिरफ्तारी का अंदेशा था, इसी आशंका में गिरफ्तारी पर स्टे पाने के लिए वह हाईकोर्ट पहुंच गए थे.

एसआईटी पर एसआईटी लेकिन परिणाम किसी का नहीं

हाईकोर्ट ने पिछले शनिवार को याचिका पर सुनवाई के दौरान शंखधर को किसी तरह की राहत देने से साफ इनकार कर दिया था. हाईकोर्ट ने उन्हें एक सप्ताह में एसआईटी के सामने पेश होकर जांच में सहयोग करने के आदेश दिए थे. गैर हाजिर चल रहे शंखधर ने बुधवार को जनजाति आयोग आफिस पहुंचकर अपना कार्यभार ग्रहण कर लिया था.

स्कॉलरशिप के लिए भटक रहे छात्र

गुरुवार सुबह करीब 11 बजे शंखधर हरिद्वार स्थित एसआईटी कार्यालय पहुंच गए थे. एसआईटी की करीब छह घंटे की पूछताछ में ज्यादातर सवालों के जवाब वह नहीं दे सके थे. देर शाम एसआईटी ने उन्हें गिरफ़्तार कर लिया था.
Loading...

छात्रवृत्ति घोटालाः हाथ पर हाथ धरे बैठी रही एसआईटी, अब ईडी करेगा जांच

शंखधर की गिरफ्तारी के बाद से समाज कल्याण विभाग में हड़कंप मचा हुआ है. एसआईटी के राडार पर अब समाज कल्याण विभाग के अन्य अधिकारी और कर्मचारी भी हैं जिनकी भूमिका छात्रवर्ती घोटाले में रही है. एसआईटी सूत्रों के अनुसार जल्द ही देहरादून के नामी कॉलेज संचालकों की गिरफ्तारी भी की जा सकती है. कोर्ट में पेशी के दौरान शंखधर के वकील संजीव कौशिक ने एसआईटी द्वारा की गई गिरफ्तारी पर सवाल खड़े किए.

VIDEO: 3 सालों से नहीं मिली छात्रवृति, सड़कों पर उतरे छात्र

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार