इंदिरा हृदयेश के बाद करन माहरा और मनीष खंडूड़ी ने भी किया आर्टिकल 370 हटाने का स्वागत... इन शर्तों के साथ

मनीष खंडूड़ी ने कहा कि आर्टिकल 370 हटाए जाने की प्रक्रिया का वह समर्थन नहीं करते और इससे समस्या बढ़ सकती है.

News18 Uttarakhand
Updated: August 8, 2019, 1:08 PM IST
इंदिरा हृदयेश के बाद करन माहरा और मनीष खंडूड़ी ने भी किया आर्टिकल 370 हटाने का स्वागत... इन शर्तों के साथ
मनीष खंडूड़ी ने कहा कि आर्टिकल 370 हटाए जाने की प्रक्रिया का वह समर्थन नहीं करते और इससे समस्या बढ़ सकती है.
News18 Uttarakhand
Updated: August 8, 2019, 1:08 PM IST
आर्टिकल 370 हटाने का विरोध करने की कांग्रेस की रणनीति के ख़िलाफ़ उत्तराखंड में आवाज़ें बढ़ने लगी हैं. सैन्य भूमि माने जाने वाले उत्तराखंड में लोगों की सेना के प्रति समर्थन स्वाभाविक रूप से रहा है और संभवतः इसलिए भी एक के बाद एक कांग्रेस नेता आर्टिकल 370 हटाने का समर्थन कर रहे हैं. नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के बाद उप नेता प्रतिपक्ष करन माहरा और पौड़ी से कांग्रेस उम्मीदवार रहे मनीष खंडूड़ी ने भी आर्टिकल 370 हटाए जाने का स्वागत किया है.

कश्मीरियों का भी करें स्वागत 

कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व आर्टिकल 370 हटाने का विरोध कर रहा है और राज्यसभा में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने इसका पुरज़ोर विरोध किया है लेकिन सैन्यभूमि उत्तराखंड में पार्टी ने अलग लाइन ले ली है. सबसे पहले प्रदेश में कांग्रेस की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश मोदी सरकार के इस फ़ैसले का समर्थन किया तो नंबर उप नेता प्रतिपक्ष का आया.

करन माहरा ने आर्टिकल 370 को हटाने का स्वागत करते हुए कहा कि अब देखना यह होगा कि इसके कूटनीतिक प्रभाव क्या पड़ेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि सिर्फ़ कश्मीर की ज़मीन नहीं हमें कश्मीरियों का भी देश की मुख्यधारा में स्वागत करना चाहिए. माहरा ने यह भी कहा कि कश्मीर की महिलाओं, लड़कियों के बारे में सोशल मीडिया में जो आपत्तिजनक बात कही जा रही है वह बहुत ग़लत है, ऐसा किसी भी सूरत में नहीं कहना चाहिए.

निर्णय सही, तरीक़ा ग़लत 

पौड़ी से कांग्रेस से चुनाव लड़े पूर्व मुख्यमंत्री मेजर जनरल (रिटायर्ड) बीसी खंडूड़ी के बेटे मनीष खंडूड़ी ने भी आर्टिकल 370 का समर्थन किया है. चमोली में पत्रकारों से बात करते हुए मनीष खंडूड़ी ने कहा कि एक सैनिक का बेटा होने के नाते वह हमेशा से चाहते रहे हैं कि जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाई जाए. इसके साथ ही खंडूड़ी ने यह भी कहा कि आर्टिकल 370 हटाए जाने की प्रक्रिया का वह समर्थन नहीं करते और इससे समस्या बढ़ सकती है.

मनीष खंडूड़ी ने यह भी कहा कि कश्मीर से 370 हटाने का केंद्र का तरीक़ा ग़लत था और इसमें  स्थानीय जनता की राय भी लेनी चाहिए थी. उन्होंने इसे नोटबंदी जैसा मामला बताया. उन्होंने कहा कि सैद्धांतिक रूप से तो नोटबंदी सही फ़ैसला था लेकिन जिस तरह उसे लागू किया गया देश पांच साल पीछे चला गया.
Loading...

(प्रभात पुरोहित और रॉबिन सिंह चौहान की ख़बर)

ये भी पढ़ें: 

एक दिन जम्मू-कश्मीर में भी होगा उत्तराखंड सदन: सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

कश्मीर पर मोदी सरकार के फ़ैसले का इंदिरा हृदयेश ने किया समर्थन! कही ये बड़ी बात... 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चमोली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 11:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...