लाइव टीवी

चारधाम यात्रा 2019: विजयादशमी के दिन निकला शुभ मुहूर्त, इस दिन बंद होंगे बदरीनाथ के कपाट

ETV UP/Uttarakhand
Updated: October 8, 2019, 5:06 PM IST
चारधाम यात्रा 2019: विजयादशमी के दिन निकला शुभ मुहूर्त, इस दिन बंद होंगे बदरीनाथ के कपाट
शीतकाल में बर्फबारी और भीषण ठंड के कारण चारों धामों- बदरीनाथ (Badrinath), केदारनाथ (Kedarnath), गंगोत्री (Gangotri) और यमुनोत्री (Yamunotri) के कपाट शीतकाल के लिए बंद किए जाते हैं, जो अगले साल अप्रैल-मई में दोबारा श्रद्धालुओं के दर्शन हेतु खोल दिए जाते हैं.

शीतकाल में बर्फबारी और भीषण ठंड के कारण चारों धामों- बदरीनाथ (Badrinath), केदारनाथ (Kedarnath), गंगोत्री (Gangotri) और यमुनोत्री (Yamunotri) के कपाट शीतकाल के लिए बंद किए जाते हैं, जो अगले साल अप्रैल-मई में दोबारा श्रद्धालुओं के दर्शन हेतु खोल दिए जाते हैं.

  • Share this:
गोपेश्वर.  उत्तराखंड (Uttarakhand) के उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित विश्व प्रसिद्ध बदरीनाथ धाम (Badrinath Temple) के कपाट आगामी 17 नवंबर को शीतकाल के लिए श्रद्धालुओं के दर्शन हेतु बंद कर दिए जाएंगे. मंगलवार को विजयादशमी के पावन पर्व पर बदरीनाथ धाम में आयोजित विशेष समारोह में मंदिर के कपाट बंद किए जाने की तारीख घोषित की गई. श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि विजयादशमी के अवसर पर परंपरागत पूजा अर्चना के बाद शीतकाल के लिये कपाट बंद करने का शुभ मुहूर्त निकाला गया.

उन्होंने बताया कि मंदिर के कपाट रविवार, 17 नवंबर की शाम पांच बज कर 13 मिनट पर बंद होंगे. इसी तरह केदारनाथ मंदिर के कपाट 29 अक्टूबर को भैया दूज के अवसर पर सुबह श्रद्धालुओं के लिये बंद कर दिये जाएंगे. केदारनाथ के शीतकालीन गद्दी स्थल उखीमठ में इस हेतु आयोजित पूजा एवं समारोह के बाद मुहूर्त निकाला गया.

अगले साल खुलेंगे कपाट
बता दें कि शीतकाल में बर्फबारी और भीषण ठंड के कारण चारों धामों-  बदरीनाथ (Badrinath Temple), केदारनाथ (Kedarnath Temple), गंगोत्री (Gangotri) और यमुनोत्री (Yamunotri) के कपाट शीतकाल के लिए बंद किए जाते हैं जो अगले साल अप्रैल-मई में दोबारा श्रद्धालुओं के दर्शन हेतु खोल दिए जाते हैं.

10 लाख 81 हजार से अधिक तीर्थयात्रियों ने किए दर्शन
इस साल कल सात अक्टूबर तक 10 लाख 81 हजार से अधिक तीर्थयात्रियों ने भगवान बदरीविशाल के दर्शन किए. बदरीनाथ में तिथि और मुहूर्त निकाले जाने के मौके पर मंदिर समिति के अध्यक्ष मोहन प्रसाद थपलियाल, मंदिर के मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नम्बूदरी, धर्माधिकारी भुवन उनियाल समेत बडी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया.

(एजेंसी इनपुट के साथ)
Loading...

ये भी पढ़ें: 

कलयुगी नारद ने जागर लगाकर किया उत्तराखंड के शहीदों का आवाहन... देवभूमि की हालत से नाराज़ दिखे तीलू रौतेली, माधो सिंह भंडारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 8, 2019, 4:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...