Home /News /uttarakhand /

1 जुलाई से पूरे प्रदेश के लिए खुल जाएंगे बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम

1 जुलाई से पूरे प्रदेश के लिए खुल जाएंगे बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम

CM ने चार धाम यात्रा शुरु करने पर सहमति दे दी है.

CM ने चार धाम यात्रा शुरु करने पर सहमति दे दी है.

एक-दो दिन में देवस्थानम बोर्ड की बैठक होगी जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दर्शन के नियम तय किए जाएंगे.

    देहरादून. उत्तराखंड के चार धाम एक जुलाई से पूरे प्रदेश के लोगों के लिए खुल जाएंगे. राज्य सरकार ने दूसरे चरण में एक जुलाई से उत्तराखंड के लोगों के लिए चार धाम यात्रा खोलने पर सहमति दे दी है. मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष शिव प्रसाद ममगाईं ने यह जानकारी दी. 11 तारीख से चारों धामों के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुले थे लेकिन पहले चरण में 30 जून तक सिर्फ़ स्थानीय निवासियों को ही दर्शन की अनुमति दी गई थी. केदारनाथ धाम में दर्शन के लिए रुद्रप्रयाग, बदरीनाथ धाम में चमोली और गंगोत्री-यमुनोत्री धाम में सिर्फ़ उत्तरकाशी के निवासी ही दर्शन कर सकते थे.

    सीएम ने दी सहमति  

    शुक्रवार को चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष शिव प्रसाद ममगाईं ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुलाकात की. करीब 10 मिनट की मुलाकात के बाद ममगाईं ने बताया कि सीएम त्रिवेंद्र रावत ने 1 जुलाई से राज्य के यात्रियों के चारधाम दर्शन पर सहमति दे दी है.

    उन्होंने कहा कि एक-दो दिन में देवस्थानम बोर्ड की बैठक होगी जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दर्शन के नियम तय किए जाएंगे और फिर राज्य के यात्रियों के लिए एक जुलाई से दर्शन की गाइडलाइन जारी कर दी जाएगी.

    सोशल डिस्टेंसिंग 

    ममगाईं ने कहा कि इस मामले में बदरीनाथ धाम के धर्माधिकारी से भी उनकी बात हुई है और वे भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के तहत राज्य के यात्रियों के लिए दर्शन शुरू करने पर सहमत हैं.

    चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष ने बताया कि यात्री दर्शन करेंगे जो यात्री पूजन करेंगे वे प्लास्टिक के पैकेट में बंद प्रसाद और माला चढ़ाएंगे और मंदिर का कोई पुजारी उनको नहीं छुएगा. उन्होंने कहा कि चारधाम में पूजन के साथ बदरीनाथ में पितृ कर्म का भी विधान है ऐसे में तमाम श्रद्धालु अपना पूजन अर्चन और पितृ कर्म कर सकेंगे.

    हालांकि उत्तराखंड में कपाट खुलने के दिन से ही यात्रा शुरू हो जाती है लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका के चलते ऐसा नहीं हुआ. 26 अप्रैल को गंगोत्री-यमुनोत्री, 29 अप्रैल को केदारनाथ और 15 मई को बदरीनाथ धाम के कपाट खुले थे लेकिन यात्रा सरकार ने स्थानीय लोगों के लिए 11 जून से शुरु की.

    चंद ने ही किए दर्शन 

    चारों धामों के तीर्थ-पुरोहितों ने 30 जून तक श्रद्धालुओं के लिए चार धाम यात्रा न खोलने की मांग की थी. सरकार ने उनकी मांग, सलाह को दरकिनार कर स्थानीय निवासियों के लिए यात्रा तो खोल दी थी लेकिन उसे उम्मीद के मुताबिक प्रतिक्रिया नहीं मिली थी. अब तक चंद लोग ही दर्शनों के लिए पहुंचे हैं.

    इस बीच नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश ने आम श्रद्धालुओं के लिए चार धाम यात्रा खोलने की मांग करते हुए कहा था कि आस्था से खिलवाड़ नहीं होना चाहिए और यात्रा शुरु की जानी चाहिए.

    Tags: Badrinath Temple, Gangotri-Yamunotri Dham, Kedarnath Dham, Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर