Home /News /uttarakhand /

Politics of Uttarakhand : हरक सिंह पर सस्पेंस, आज जॉइन नहीं करेंगे कांग्रेस! हरीश रावत हैं नाराज़...

Politics of Uttarakhand : हरक सिंह पर सस्पेंस, आज जॉइन नहीं करेंगे कांग्रेस! हरीश रावत हैं नाराज़...

हरक सिंह रावत की कांग्रेस वापसी पर सस्पेंस बना.

हरक सिंह रावत की कांग्रेस वापसी पर सस्पेंस बना.

Uttarakhand Election : 'भाजपा ने इतना बड़ा फैसला लेने से पहले मुझसे बात तक नहीं की..' यह कहने और मीडिया के सामने अपना दर्द बयान कर रो पड़ने वाले कैबिनेट मंत्री (Ex Cabinet Minister) रह चुके हरक सिंह रावत से कांग्रेस का एक धड़ा (Congress Leaders) नाराज़ है क्योंकि करीब छह साल पहले वह कांग्रेस को मझधार में छोड़कर बीजेपी में चले गए थे. अब हरक सिंह रावत की कांग्रेस में वापसी को लेकर सियासत चल रही है. हरीश रावत के कैंप के माने जाने वाले गणेश गोदियाल (Ganesh Godiyal) कह चुके हैं कि भले ही हरक सिंह का जनाधार हो, लेकिन पार्टी की नीति के आधार पर हाईकमान फैसला करेगा.

अधिक पढ़ें ...

रविकांत

नई दिल्ली/देहरादून. भाजपा से निष्कासित कर दिए गए कद्दावर नेता हरक सिंह रावत की कांग्रेस में वापसी को लेकर सस्पेंस का माहौल फिर बन गया है. सूत्रों के हवाले से बड़ी खबर यह आ रही है कि आज मंगलवार को हरक सिंह की कांग्रेस पार्टी में जॉइनिंग नहीं होगी. इसकी वजह यही बताई जा रही है पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत समेत कई नेता हरक सिंह से नाराज़ हैं और उनकी वापसी को लेकर विरोध कर रहे हैं. हरक के लिए अपनी नाराज़गी हरीश रावत खुलकर आलाकमान को बता चुके हैं. आलाकमान को फैसला लेना है, लेकिन कुल मिलाकर हरक सिंह की जॉइनिंग को लेकर अभी भी पेच फंसा हुआ है.

इससे पहले कहा जा रहा था कि मंगलवार को हरक सिंह की कांग्रेस में वापसी लगभग तय हो चुकी है. दलबदल की इस राजनीति को लेकर जहां उत्तराखंड में सियासी हलचलें बनी हुई हैं, वहीं दिल्ली में भी कांग्रेस के गलियारों में इस मामले पर गहमागहमी बढ़ गई है. इस तरह की चर्चा भी है कि पिछले साल के आखिरी दिनों में ही कांग्रेस के भीतर गुटबंदी को लेकर हरीश रावत ने नाराज़गी ज़ाहिर की थी और आखिरकार आलाकमान ने उन्हें चुनाव की पूरी कमान सौंप देने का निर्णय लिया था. इस बार फिर हरीश रावत की साख का सवाल खड़ा होने की बात कही जा रही है.

फिर वही दो गुट, फिर वही तकरार!
सूत्रों के हवाले से आ रही खबरों की मानें तो इस बार भी प्रीतम सिंह गुट हरीश रावत गुट के सामने खड़ा हो गया है और हरक सिंह की वापसी का समर्थन कर रहा है. नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह और कांग्रेस के उत्तराखंड प्रभारी देवेंद्र यादव हरक सिंह का समर्थन देते हुए दबी ज़ुबान में कह रहे हैं कि हरीश रावत को अब माफी दे देनी चाहिए. वहीं, हरीश रावत कह चुके हैं कि पार्टी का सवाल हो, तो एक शख्स की ​अहमियत नहीं है और पार्टी इस पर आपसी सहमति से फैसला करेगी.

क्या अब तक हरीश रावत ने नहीं दी माफी?
इस पूरे घटनाक्रम में यह चर्चा साफ तौर पर है कि हरीश रावत ने हरक सिंह को माफ नहीं किया है. दरअसल खुद हरीश रावत कई बार कह चुके हैं कि 2016 में जो लोग कांग्रेस की सरकार को गिराने के मकसद से पार्टी छोड़कर गए थे, उन्होंने संसदीय लोकतंत्र को कलंकित किया था. उन्हें अपने किए की माफी मांगनी होगी. रावत के इस बयान के बाद ​कुछ महीने पहले हरक सिंह ने मीडिया को बयान देकर हरीश रावत को ‘बड़ा भाई’ कहा था और माफी मांगी थी.

Tags: Harak singh rawat, Uttarakhand Assembly Election, Uttarakhand Congress

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर