• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttarakhand
  • »
  • Uttarakhand Politics: दल-बदल से टिकट पर घमासान, BJP-कांग्रेस में अंदरूनी कलह, सरिता आर्य ने दी धमकी

Uttarakhand Politics: दल-बदल से टिकट पर घमासान, BJP-कांग्रेस में अंदरूनी कलह, सरिता आर्य ने दी धमकी

एक कार्यक्रम के दौरान महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य. (Image:Twitter)

एक कार्यक्रम के दौरान महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य. (Image:Twitter)

Uttarakhand Election 2022: दलबदल की राजनीति से कार्यकर्ताओं के सामने स्थिति असमंजस वाली हो गई है. जिन नेताओं के खिलाफ वो सालों से माहौल बना रहे थे, अब उन्हीं के लिए प्रचार करना होगा. कार्यकर्ता और स्थानीय नेता खुलकर विरोध ज़ाहिर करने लगे हैं.

  • Share this:

    देहरादून. विधानसभा चुनाव 2022 से महीने पहले उत्तराखंड में दलबदल की सियासत चरम पर है. राजनीतिक दल एक दूसरे के नेता तोड़ने के दावे कर रहे हैं, इससे पार्टियों के वफादार नेता और कार्यकर्ता भड़क उठे हैं. विरोधी पार्टियों के नेताओं के शामिल होने के बाद भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों में अंदरूनी तकरार से दिख रही है बानगी के तौर पर महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता वर्मा ने पार्टी से साफ कह दिया है कि वह चुनाव लड़ने को लेकर अपनी सीट से कोई समझौता नहीं करेंगी.

    आर्य ने ट्वीट करते हुए लिखा कि विपरीत स्थितियों में उन्होंने पार्टी के प्रति अपनी निष्ठा रखी और पार्टी को मज़बूत करने का काम किया. लेकिन जो राजनीतिक घटनाक्रम हुआ है, उसके बाद उनके पास कई विकल्प खुले हैं. इस ट्वीट के बाद न्यूज़18 के साथ बातचीत करते हुए पूर्व विधायक सरिता आर्य ने साफ तौर पर कहा कि वह टिकट के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगी.

    हालांकि भाजपा सरकार में मंत्री यशपाल आर्य और नैनीताल से विधायक संजीव आर्य के कांग्रेस में आने का स्वागत तो किया, लेकिन नैनीताल से विधायक रह चुकीं और आगामी चुनाव लड़ने के लिए तैयारी कर रहीं सरिता आर्य ने अपनी सीट पर संकट मंडराता देख चेतावनी भी दे डाली.

    Uttarakhand news, Uttarakhand polls, defection in bjp, defection in congress, congress leader, bjp leader, उत्तराखंड ताजा समाचार, उत्तराखंड चुनाव, दलबदल राजनीति

    यशपाल आर्य व संजीव आर्य के कांग्रेस जॉइन करने के बाद सरिता आर्य ने किया ट्वीट.

    भाजपा में भी तकरार

    विरोधी पार्टियों के खिलाफ पिछले पांच सालों से तैयारी कर रहे नेताओं और कार्यकर्ताओं के सामने दलबदल से समस्या यह खड़ी हो गई है कि अब विरोधी नेता ही उनकी पार्टी में हैं, जिनके खिलाफ वह सालों से ज़मीन तैयार कर रहे थे. भीमताल से विधायक रामसिंह कैड़ा के भाजपा में जाने के बाद भी पार्टी के भीतर यही स्थिति बन रही है. कैड़ा कह चुके हैं कि वह चुनाव ज़रूर लड़ेंगे इसलिए तैयारी कर रहे भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं में नाराज़गी है, हालांकि अभी खुलकर विरोध सामने नहीं आया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज