बिना सिंबल के चुनाव के लिए बीजेपी ने कसी कमर... जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश को समिति बनाई

प्रदेश महामंत्री खजान दास ने कहा कि ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य के चुनावों में पार्टी की विचारधारा से मेल रखने वाले को ही पार्टी टिकट देगी.

Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: September 13, 2019, 4:37 PM IST
बिना सिंबल के चुनाव के लिए बीजेपी ने कसी कमर... जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश को समिति बनाई
बीजेपी ने पंचायत चुनावों में जिताऊ प्रत्याशियों की तलाश के लिए के एक पांच सदस्यीय समिति का गठन कर दिया है. (फ़ाइल फ़ोटो)
Kishore Kumar Rawat | News18 Uttarakhand
Updated: September 13, 2019, 4:37 PM IST
बीजेपी (BJP) ने पंचायत चुनावों (Panchayat Elections) में जिताऊ प्रत्याशियों (Winning Candidates) की तलाश के लिए के एक पांच सदस्यीय समिति (5 Member Committee) का गठन कर दिया है. बीजेपी संगठन (BJP Organisation) को इस बात का इल्म है कि अगर आने वाले विधानसभा चुनावों (Assembly Elections) में सत्ता (Power) बरकार रखनी है तो छोटी सरकार का चुनाव जीतना ही होगा. दरअसल विधानसभा चुनावों से पहले यह आखिरी चुनाव है जिसमें संगठन की तैयारियों की परीक्षा होगी. इसलिए भले ही ये चुनाव बिना चुनाव चिन्ह (Party Symble) के लड़े जाने हों पार्टी ने अपने संगठन को इसमें झोंक दिया है.

ये हैं समिति के सदस्य 

मोदी-शाह के नेतृत्व वाली नई बीजेपी किसी भी चुनाव को हल्के में नहीं लेती और इसलिए बीजेपी ने उत्तराखंड में होने वाले पंचायत चुनावों के लिए भी कमर कस ली है. पार्टी ने पांच लोगों की समिति का गठन किया है जिसका काम हर ज़िले में जाकर योग्य और जिताऊ प्रत्यशियों की तलाश करना है.

बीजेपी के प्रदेश महामंत्री खजानदास ने बताया कि इस पांच सदस्यीय समिति के अध्यक्ष उच्च शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धन सिंह रावत हैं. उनके साथ इस समिति में नरेश बंसल, बिशन सिंह चुफाल, पुष्कर धामी और नीरो देवी भी सदस्य के रूप में शामिल हैं. ये समिति प्रत्याशियों का पैनल बनाकर प्रदेश अध्यक्ष को सौंपेगी.

प्रत्याशियों का पूरा समर्थन 

त्रिस्तरीय पंचायत चुनावो में ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्यों को पार्टी सिंबल तो नहीं दिया जाता है लेकिन ज़िला पंचायत सदस्य पार्टी सिम्बल पर चुनाव लड़ते हैं. खजानदास कहते हैं कि पार्टी ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य के चुनाव में प्रत्याशी का पूरा समर्थन करेगी. प्रदेश महामंत्री खजान दास ने कहा कि ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य के चुनावों में पार्टी की विचारधारा से मेल रखने वाले को ही पार्टी टिकट देगी.

कहने के लिए ही पंचायत चुनाव छोटे स्तर के चुनाव हैं, बीजेपी की तैयारी इन चुनावों को लोकसभा और विधानसभा स्तर की गंभीरता से लड़ने की है क्योंकि इन चुनावों में हार-जीत की गूंज विधानसभा चुनावों का मूड तय करेगी.
Loading...

ये भी देखें: 

उत्तराखंडः दो से अधिक बच्चे हैं तो नहीं लड़ सकेंगे पंचायत चुनाव!

पंचायत चुनाव: त्रिवेंद्र सरकार को HC की कड़ी फटकार, राज्य निर्वाचन आयोग पर भी उठाए सवाल 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 13, 2019, 3:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...