लाइव टीवी

बीजेपी के टिहरी सीट पर नया चेहरा उतारने की चर्चा के बीच सक्रिय हुई सांसद माला राजलक्ष्मी

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: March 14, 2019, 6:13 PM IST
बीजेपी के टिहरी सीट पर नया चेहरा उतारने की चर्चा के बीच सक्रिय हुई सांसद माला राजलक्ष्मी
माला राजलक्ष्मी शाह, सांसद टिहरी

बीजेपी टिहरी सीट पर नया चेहरा उतार सकती है. इन चर्चाओं के बीच टिहरी की मौजूदा सांसद माला राजलक्ष्मी ने अपनी एक्टिविटी बढ़ा दी है. नेपाल राजघराने से संबंध रखने वाली सांसद गुरुवार को देहरादून में गोर्खाली समुदाय के बीच पहुंची. उत्तराखंड में गोर्खाली समुदाय के भी करीब 11 लाख के आसपास वोट हैं.

  • Share this:
बीजेपी टिहरी सीट पर नया चेहरा उतार सकती है. इन चर्चाओं के बीच टिहरी की मौजूदा सांसद माला राजलक्ष्मी ने अपनी एक्टिविटी बढ़ा दी है. नेपाल राजघराने से संबंध रखने वाली सांसद गुरुवार को देहरादून में गोर्खाली समुदाय के बीच पहुंची. उत्तराखंड में गोर्खाली समुदाय के भी करीब 11 लाख के आसपास वोट हैं. इनमें अकेले टिहरी संसदीय सीट पर करीब एक लाख के आसपास मतदाता हैं. गुरुवार को माला राज्यलक्ष्मी शाह ने गढ़ी कैंट पहुंचकर गोर्खाली सभा के कार्यकर्ताओं से मुलाकात की. माला राजलक्ष्मी शाह ने कहा कि वह अपने मायके आई हैं. ऐसे में गोर्खाली समुदाय ने भी उन्हें बेटी कहकर सम्मान दिया. इस दौरान गोर्खाली समुदाय ने एंग्लो इंडियन की भांति उनके समुदाय को भी विधानसभा में प्रतिनिधित्व देने की मांग उठाई.

यहां पहुंचकर माला राजलक्ष्मी ने कहा कि आज वह गोर्खाली समुदाय के बीच एक बैठक में भाग लेने आई हैं. जब उनसे चुनाव लड़ने के संदर्भ में सवाल किया गया तब उन्होंने कहा कि पहले टिकट की घोषणा हो जाए तब आगे देखेंगी. लेकिन साथ में उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें विश्वास है कि बीजेपी चुनाव जीत जाएगी. उन्होंने कहा कि हम सभी लोग मिलकर मोदी जी को आगे करेंगे.

वहीं गोर्खाली समुदाय के अध्यक्ष पदम सिंह थापा ने कहा कि सांसद माला राजलक्ष्मी को गोर्खाली समुदाय एक बेटी के रूप में देखता है. उन्होंने कहा कि सांसद ने 2016 - 2017 में सांसद निधि से उनके क्षेत्र में कम्प्यूटर और सिलाई, बुनाई व कढ़ाई के लिए एक भवन का निर्माण कराया था. इसमें समाज के हर तबके के बच्चे लोग कम्प्यूटर की शिक्षा ले रहे हैं. साथ ही सिलाई, बुनाई और कढ़ाई की शिक्षा भी दी जा रही है.

गोर्खाली समुदाय की प्रबंधक प्रभाशाह ने कहा कि हमारा एक भी विधायक नहीं है जो हमारी मांगों को ऊपर तक ले जाए. इसलिए हम चाहते हैं कि सदन में हमारा प्रतिनिधित्व हो. उत्तराखंड में भागीदारी दिखाने का गोर्खाली समुदाय को सौभाग्य प्राप्त हो.

ये भी पढ़ें - अल्मोड़ा में अजय व प्रदीप टम्टा की सक्रियता बढ़ी, एक बीजेपी तो दूसरा कांग्रेस से है दावेदार

ये भी देखें - VIDEO: बीजेपी का कोई बड़ा नेता कांग्रेस में हो सकता है शामिल- इंदिरा ह्रदयेश

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 14, 2019, 6:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...