होम /न्यूज /उत्तराखंड /BJP MLA यौन शोषण मामला... पीड़िता ने बताया जान का खतरा, DNA टेस्ट की मांग पर अड़ी

BJP MLA यौन शोषण मामला... पीड़िता ने बताया जान का खतरा, DNA टेस्ट की मांग पर अड़ी

पीड़िता ने पुलिस पर भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह भी आरोप लगाया है कि पुलिस ने इस मामले में उनकी बात सुनी ही नहीं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पीड़िता ने पुलिस पर भेदभाव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह भी आरोप लगाया है कि पुलिस ने इस मामले में उनकी बात सुनी ही नहीं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

न्यूज 18 के साथ खास बातचीत के दौरान पीड़िता ने किए कई अन्य खुलासे, वहीं मामले को लेकर महिला आयोग भी हुआ गंभीर. पत्र लिख ...अधिक पढ़ें

देहरादून. बीजेपी विधायक महेश नेगी पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाने वाली पीड़िता विधायक से अपनी और अपनी बच्ची की जान को खतरा बता रही है. पीड़िता ने पुलिस पर भेदभाव करने का आरोप लगाया, साथ ही कहा कि पुलिस उसकी बात नहीं सुन रही है. पीड़िता ने कहा कि विधायक महेश नेगी की पत्नी की तहरीर पर तो पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली, लेकिन उसकी तहरीर को ठंडे बस्ते में डाल दिया है. न्यूज़ 18 के साथ खास बातचीत के दौरान पीड़िता ने कई अन्य बातों का भी खुलासा किया और गंभीर आरोप लगाए.

नहीं आना चाहती थी सामने
महिला ने कहा कि वह सामने नहीं आना चाहती थी लेकिन विधायक की पत्नी के चलते उन्हें सामने आना पड़ा. पहले विधायक महेश नेगी की पत्नी ने ही पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है, जिसके बाद उन्हें अपनी और अपनी बच्ची की जान का खतरा लग रहा है.

विधायक के परिवार से पांच करोड़ रुपये मांगने की बात को पीड़िता ने नकार दिया. महिला का कहना है कि उसे पैसे का लालच नहीं है, बस वह चाहती है कि उसकी बेटी का डीएनए टेस्ट हो जाए ताकि सच सामने आ जाए. हालांकि वह यह बात स्वीकार करती हैं कि विधायक की पत्नी ने उन्हें 25 लाख रुपये देने की पेशकश की थी.

महिला आयोग गंंभीर
वहीं इस मामले में महिला आयोग भी कूद गया है. आयोग की अध्यक्ष विजया बड़थ्वाल ने कहा कि चाहे मामला हाई प्रोफाइल हो या आम महिला से जुड़ा हुआ,  महिला आयोग इस तरह के उत्पीड़न के मामलों को लेकर गंभीर है.
" isDesktop="true" id="3207489" >

बड़थ्वाल ने बताया कि पीड़िता ने उन्हें वॉट्सऐप पर शिकायत की थी जिसके बाद आयोग एसएसपी दून को पत्र भेजकर इस मामले में कार्रवाई के लिए कह रहा है. सोमवार को एसएसपी अल्मोड़ा को भी कार्रवाई के लिए कह दिया गया है और 29 अगस्त तक रिपोर्ट भी मांगी गई है. महिला आयोग का अब अगला कदम दोनों को आमने-सामने बुलाने का है.

Tags: BJP MLA, Sexual Harassment, Uttarakhand BJP, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें