कोर्ट में हियरिंग के दौरान दो गुटों में खूनी संघर्ष, वकील व पुलिस होमगार्ड बने रहे मूकदर्शक
Dehradun News in Hindi

कोर्ट में हियरिंग के दौरान दो गुटों में खूनी संघर्ष, वकील व पुलिस होमगार्ड बने रहे मूकदर्शक
मौजूद वकील और होमगार्ड दो गुटों के बीच हुए खूनी संघर्ष को मूकदर्शक बनकर देखते रहे

राजधानी देहरादून (Dehradun) में खूनी संघर्ष (Bloody struggle) के दौरान मौके पर वकील और पुलिस होमगार्ड मूकदर्शक (Mute spectator) बनकर तमाशा देखते रहे.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) की राजधानी देहरादून (Dehradun) में खूनी संघर्ष (Bloody struggle) के दौरान मौके पर वकील और पुलिस होमगार्ड मूकदर्शक (Mute spectator) बनकर तमाशा देखते रहे. मामला शुक्रवार दोपहर देहरादून की फैमिली कोर्ट परिसर का है.

पूरा मामला

दरअसल, देहरादून की फैमिली कोर्ट परिसर (Family Court Campus) में पार्किंग स्थल (Parking Zone) पर सरेआम दो गुटों के बीच झगड़ा हो गया. गुंडागर्दी करते हुए दोनों पक्षों के लोगों के बीच जमकर खूनी संघर्ष देखने को मिला. इस पूरी घटना का वीडियो वहां मौजूद एक व्यक्ति ने रिकॉर्ड कर लिया था, जो अब सोशल मीडियों पर वायरल हो गया है.



बता दें कि इस दौरान एक गुट बेल्ट और लात-घूसों से दूसरे पक्ष पर जानलेवा हमला करता रहा, लेकिन मौके पर ही मौजूद वकील और होमगार्ड इस पूरे घटनाक्रम को मूकदर्शक बनकर सब देखते रहे. झगड़े के दौरान बिलाल नाम के एक व्यक्ति का सिर फूट गया है, जिसे आनन फानन में इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
घायल बिलाल का कहना है कि वो अपने भाई के साथ फैमिली कोर्ट में हियरिंग के लिए आया था. इस बीच उसके भाई की पत्नी के पिता व उसके भाइयों ने बेल्ट, हॉकी और लात-घूसों से हमला कर दिया. बिलाल का भाई को पैराडाइज है, इसलिए वो कुछ कर नहीं सका.

क्राइम रिपोर्ट-crime report
मारपीट करने वाले 4 लोगों पर FIR दर्ज


4 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

वहीं घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले में घायल बिलाल की शिकायत के आधार पर 4 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है. दोनों पक्षों के बीच खूनी संघर्ष होने से कोर्ट में अन्य गवाही देने आए कई लोग भी भयभीत हो गए.

ये भी पढ़ें:- गीताराम नौटियाल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत... माने जा रहे छात्रवृत्ति घोटाले के मुख्य आरोपी

ये भी पढ़ें:- स्टिंग केस में हरीश रावत ने की जल्द सुनवाई की मांग... अगली सुनवाई 7 जनवरी को
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज