शादियों के लिए बुकिंग शुरू, फूलों के कारोबार से लेकर कैटरिंग के बिज़नेस से जुड़े लोगों को राहत

अब 200 लोगों की गैदरिंग की परमिशन मिलने के बाद शादियों की रौनक लौटने की उम्मीद है.
अब 200 लोगों की गैदरिंग की परमिशन मिलने के बाद शादियों की रौनक लौटने की उम्मीद है.

वेडिंग पॉइंट एसोसिएशन के अनुसार बड़ी शादियां तो नहीं लेकिन छोटी शादियों के लिए वे पूरी तरह से तैयार हैं.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना के चलते इस साल वेडिंग सीज़न में लोगों ने शादियां पोस्टपोन कीं या फिर कोविड-19 गाइडलाइन्स के मुताबिक एकदम चुपचाप कीं. अनलॉक-5 में 200 लोगों तक के साथ शादी, पार्टी की अनुमति मिलने के बाद पार्टी आयोजित करने वाले लोगों को बड़ी राहत मिली है. शादी-पार्टी में फूलों का काम करने से लेकर वेडिंग पॉएंट, फ़ॉर्म हाउस बिज़नेस से जुड़े लोग एक बार फिर शादियों की तैयारियों में जुट गए हैं. इस काम से जुड़े लोगों का मानना है कि आने वाला वेडिंग सीज़न उन्हें इस बेहद मुश्किल समय में बड़ी राहत दे सकता है.

छोटी पार्टियों से राहत की उम्मीद 

कोरोना की वजह से शादियों की रौनक इस साल खत्म ही हो गई. न पार्टी हुईं, न ही सेलिब्रेशन. अब 200 लोगों की गैदरिंग की परमिशन मिलने के बाद शादियों की रौनक लौटने की उम्मीद है. इसके चलते अब फूल का काम करने से लेकर, डीजे, कैटरिंग समेत इस प्रॉफेशन से जुड़े लोग फिर से काम के पटरी पर आने की उम्मीद कर रहे हैं.



शादियों का सीज़न 17 अक्टूबर से हो रहा है. इस साल थोड़ी बहुत कमाई की उम्मीद है यानी यह खाली नहीं जाएगा. हालांकि अगले साल के लिए वह पूरी तरह आश्वस्त हैं. वेडिंग फ्लावर डेकोरेटर निधि शर्मा कहती है कि बड़ी शादियां तो अगले साल के लिए शिफ्ट हो गई हैं लेकिन 200 लोगों की परमिशन के बाद नवंबर, दिसंबर में होने वाली शादियां कुछ हद तक आर्थिक नुकसान कम कर सकती हैं.
वेडिंग पॉएंट्स हैं तैयार 

वेडिंग पॉएंट एसोसिएशन से जुड़े लोग भी निधि शर्मा की बात से सहमत हैं. वेडिंग पॉइंट एसोसिएशन के अध्यक्ष हरभजन सिंह कहते है कि बड़ी शादियां तो नहीं लेकिन छोटी शादियों के लिए वे पूरी तरह से तैयार हैं. सैनिटाइज़ेशन से लेकर कोविड गाइडलाइंस का पालन करवाने के लिए कैटरिंग, टेंट हाउस से जुड़े लोगों सुरक्षा बरतने की जानकारी दी जा रही है. 17 अक्टूबर के बाद भी वेडिंग पॉइन्ट में बुकिंग आनी भी शुरु हो गई हैं.

17 अक्टूबर के बाद होने वाले शादी समारोह इनमें शामिल होने वाले लोगों के सब्र का इम्तेहान भी लेंगे आखिर वह शादी कैसे ख़ास होगी जिसमें कुछ लोग उनके ख़ास डांस के लिए, चुहल के लिए याद नहीं किए जाएंगे. सोशल डिस्टेंसिंग के साथ क्या सारी मस्ती हो सकेगी? यह देखने वाली बात होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज