उत्तराखंड के लोकल प्रोडक्ट्स को मिलेगा बाजार, दिया जाएगा पहाड़ी फिलिंग वाला ब्रांड नेम

सीएम ने ग्रोथ सेंटर के प्रोडक्ट्स की बिक्री की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है.
सीएम ने ग्रोथ सेंटर के प्रोडक्ट्स की बिक्री की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है.

उत्तराखंड में अबतक 104 ग्रोथ सेंटर्स (Growth Centers) को मंजूरी मिल चुकी है, जिसमें 72 एक्टिव हैं. इनमें डेयरी प्रोडक्ट, मसाले, शहद, बेकरी प्रोडक्ट (Products) बनाये जा रहे हैं.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में ग्रोथ सेंटर जो भी प्रोडक्ट तैयार कर रहे हैं. उनके लिए अम्ब्रेला ब्रांड बनाया जाएगा. यानि राज्य के प्रोडक्ट्स के लिए एक ब्रांड नाम (Brand Name) तय किया जाएगा. सीएम ने निर्देश दिए कि नाम ऐसा हो, जिसमें पहाड़ की फिलिंग आए. सीएम ने कहा कि जिलों में डीएम खुद जाकर ग्रोथ सेंटर (Growth Centers) की समस्याओं को दूर करें. वहीं ग्रोथ सेंटर में जो प्रोडक्ट तैयार किए जा रहे हैं, उनकी बिक्री की रूटीन व्यवस्था हो. सीएम ने कहा कि ग्रोथ सेंटर वोकल फ़ॉर लोकल का अच्छा उदाहरण हैं.

उत्तराखंड में अबतक 104 ग्रोथ सेंटर्स को मंजूरी मिल चुकी है, जिसमें 72 एक्टिव हैं. जिनमें डेयरी प्रोडक्ट, मसाले, शहद, बेकरी प्रोडक्ट का काम हो रहा है.

सीएम ने कहा कि ग्रोथ सेंटरों से जुड़े लोगों का स्किल डेवलपमेंट हो. थानो और कोटाबाग के एलईडी ग्रोथ सेंटरों को क्वालिटी डिजायनर उपलब्घ कराई जाएं. हरिद्वार का प्रसाद निर्माण से जुड़ा सेंटर आगामी कुम्भ को देखते हुए अपनी तैयारियां करें. सभी ग्रोथ सेंटरों से जुड़े लोगों के स्किल डेवलपमेंट की भी व्यवस्था की जाए.



नियमित बिक्री की व्यवस्था हो
मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रोथ सेंटरों के उत्पादों की सीजनल ही नहीं बल्कि नियमित बिक्री सुनिश्चित की जाए. आसपास के कुछ ग्रोथ सेंटरों को मिलाकर एक पिकअप वाहन उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा सकती है. इससे यातायात लागत कम होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रोथ सेंटरों से जुड़े लोगों विशेषतौर पर महिलाओं के आत्मविश्वास में वृद्धि हुई है. इस आत्मविश्वास को और बढ़ाना है.

अभी तक 104 ग्रोथ सेंटर स्वीकृत, 72 क्रियाशील

अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार ने बताया कि अभी तक कुल 104 ग्रोथ सेंटर स्वीकृत किए गए हैं. इनमें से 72 क्रियाशील हो चुके हैं. अन्य भी जल्द ही शुरू हो जाएंगे. इन ग्रोथ सेंटरों से लगभग 30 हजार लोग लाभान्वित हो रहे हैं. स्वीकृत किए गए ग्रोथ सेंटरों में एग्री बिजनेस आधारित 38, बेकरी आधारित 04, डेयरी व दुग्ध उत्पाद आधारित 05, मत्स्य 11, आर्गेनिक ऊन 10, प्रसाद 05, मसाला 04, फल प्रसंस्करण 05, शहद व मौन पालन 04, एलईडी 02, शिल्प आधारित 05, आईटी 02, पर्यटन 02, हथकरघा व क्विल्ट आधारित 02, पशुआहार 01 और एरोमा आधारित 04 ग्रोथ सेंटर हैं.

बताया गया कि सितम्बर 2020 तक क्रियाशील ग्रोथ सेंटरों की कुल बिक्री धनराशि 6 करोड़ 09 लाख रुपए रही, जबकि लाभ की राशि 60 लाख रुपए से अधिक रही. ग्रेाथ सेंटरों के टर्नओवर और मुनाफे में लगातार वृद्धि हो रही है. ग्रेाथ सेंटरों की ऑनलाईन मार्केटिंग के लिए वेबसाइट बनाई जा रही है. इनका थर्ड पार्टी मूल्यांकन भी कराया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज