Home /News /uttarakhand /

Hate APP Case : उत्तराखंड से गिरफ्तार दोनों आरोपी पुलिस रिमांड पर, DGP ने कहा, 'हमने मुंबई पुलिस की मदद की'

Hate APP Case : उत्तराखंड से गिरफ्तार दोनों आरोपी पुलिस रिमांड पर, DGP ने कहा, 'हमने मुंबई पुलिस की मदद की'

मुंबई की अदालत ने उत्तराखंड से पकड़े गए आरोपियों को रिमांड पर सौंपा.

मुंबई की अदालत ने उत्तराखंड से पकड़े गए आरोपियों को रिमांड पर सौंपा.

Bulli Bai APP Controversy : इस केस में FIR दर्ज करने वाली दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल ने 6 जनवरी को असम से नीरज बिश्नाई (NIraj Bishnoi) को गिरफ्तार किया और उसके बाद ये खबरें रहीं कि इस पूरे मामले का मास्टरमाइंड (Hate APP Mastermind) यही स्टूडेंट है, जिसने विवादास्पद एप बनाया. हालांकि इससे पहले उत्तराखंड से गिरफ्तार की गई एक 18 साल की लड़की (Shweta Singh) को पुलिस अधिकारियों ने मास्टरमाइंड करार दिया था. अब आगे की पूछताछ के लिए उत्तराखंड से पकड़े गए दोनों आरोपियों को मुंबई में पुलिस रिमांड (Police Remnad) पर सौंप दिया गया.

अधिक पढ़ें ...

    देहरादून. सामाजिक क्षेत्रों में सक्रिय महिलाओं से जुड़ी आपत्तिजनक कंटेंंट अपलोड करने वाले बुली बाई एप विवाद के मामले में मुंबई की एक अदालत ने श्वेता सिंह और मयंक रावत को 10 जनवरी तक पुलिस रिमांड पर सौंप दिया है. इन दोनों को मुंबई पुलिस की छापेमारी के बाद उत्तराखंड से गिरफ्तार किया गया था. इधर, उत्तराखंड पुलिस के महानिदेशक अशोक कुमार ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि उत्तराखंड पुलिस ने इस मामले में हो रही गिरफ्तारियों में केवल मददगार की भूमिका अदा की, यह पूरा केस मुंबई पुलिस ही संभाल रही है.

    उत्तराखंड से इस मामले में दो आरोपियों 18 वर्षीय श्वेता और 21 वर्षीय स्टूडेंट मयंक की गिरफ्तारी के बाद दोनों की ट्रांज़िट रिमांड 5 जनवरी को राज्य से मिल गई थी. इसके बाद मुंबई पुलिस इन दोनों को मुंबई लेकर गई थी और बांद्रा की एक अदालत से पुलिस ने पूछताछ के लिए दोनों आरोपियों की रिमांड मांगी थी. पीटीआई की खबर के मुताबिक शुक्रवार को बांद्रा मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट ने जिरह सुनने के बाद दोनों को 10 जनवरी तक रिमांड पर सौंप दिया. मुंबई पुलिस ने इस मामले में पहले कहा था कि श्वेता ने इस एप का ट्विटर हैंडल बनाया था और वह मामले की मुख्य आरोपी है.

    इधर, इस मामले में उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार ने दो दिन पहले बताया था कि श्वेता इस मामले की मुख्य आरोपी है और संभवत: पैसों के लिए उसने ऐसा किया हो. इसके बाद समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कुमार ने कहा, “हमने रुद्रपुर और कोटद्वार से आरोपियों को गिरफ्तार करने में मुंबई पुलिस की मदद की. हम इस मामले में कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं हैं.”

    गौरतलब है कि श्वेता को उधमसिंह नगर ज़िले के रुद्रपुर में आदर्श नगर कॉलोनी से बुधवार को गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद भी मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने ताबड़तोड़ छापेमारी जारी रखते हुए उत्तराखंड के ही पौड़ी ज़िले के कोटद्वार स्थित नींबूचौड़ इलाके से मयंक रावत को गिरफ्तार किया था. इस मामले में दिल्ली पुलिस द्वारा पकड़े गए नीरज बिश्नोई के साथ अब तक कुल 4 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं.

    Tags: Cyber Crime News, Hate Crime, Mumbai police, Uttarakhand Police

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर