Home /News /uttarakhand /

कैबिनेट एक्सटेंशन: ये बन सकते हैं त्रिवेंद्र सरकार के मंत्री

कैबिनेट एक्सटेंशन: ये बन सकते हैं त्रिवेंद्र सरकार के मंत्री

मुख्यमंत्री ने पहली बार 12 जनवरी को एक कार्यक्रम में पत्रकारों के सवालों के जवाब में संकेत दिए कि कैबिनेट विस्तार की आवश्यकता महसूस हो रही है.

मुख्यमंत्री ने पहली बार 12 जनवरी को एक कार्यक्रम में पत्रकारों के सवालों के जवाब में संकेत दिए कि कैबिनेट विस्तार की आवश्यकता महसूस हो रही है.

सीएम के पास करीब चालीस के आस-पास विभाग हैं और ज़ाहिर तौर पर इससे कामकाज प्रभावित हो रहा है.

देहरादून. उत्तराखंड में त्रिवेंद्र सरकार के कैबिनेट विस्तार की चर्चा ज़ोरों पर है. त्रिवेंद्र कैबिनेट में तीन सीटें खाली हैं. इनमें दो सीटें तो शुरु से ही भरी नहीं गई  और मार्च 2019 में कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत के निधन के बाद एक और सीट खाली हो गई है. अब चूंकि चुनाव को दो ही साल रह गए हैं इसलिए माना जा रहा है कि अब भी यह सीटें नहीं भरी गईं तो फिर इन्हें भरने का कोई औचित्य नहीं रह जाएगा.

सीएम के पास 40 विभाग

मार्च 2017 में सत्ता में आई त्रिवेंद्र सरकार में कैबिनेट की दो सीटें खाली रखी गईं. जब तब नेतागण इनको भरने के कयास लगाते रहे. पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और मौजूदा सांसद अजय भट्ट ने भी कई बार इन खाली सीटों को भरने की पैरवी की लेकिन सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की ओर से हरी झंडी नहीं मिली.

मार्च में कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत का कैंसर की बीमारी के कारण निधन हुआ तो कैबिनेट की तीसरी सीट भी खाली हो गई .प्रकाश पंत के पास संसदीय कार्य, वित्त जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय थे. इनमें से संसदीय कार्यमंत्री का प्रभार तो सत्र चलने के दौरान मदन कौशिक को दे दिया जाता है लेकिन बाकी विभाग मुख्यमंत्री खुद संभाल रहे हैं. सीएम के पास करीब चालीस के आस-पास विभाग हैं और ज़ाहिर तौर पर इससे कामकाज प्रभावित हो रहा है.

तय हो चुका है?

मुख्यमंत्री ने पहली बार 12 जनवरी को एक कार्यक्रम में पत्रकारों के सवालों के जवाब में संकेत दिए कि कैबिनेट विस्तार की आवश्यकता महसूस हो रही है तो इससे एक बार फिर हचलल तेज़ हो गई. इस बीच भाजपा के नवनियुक्त् अध्यक्ष बंशीधर भगत ने भी मीडिया को बयान दिया कि कैबिनेट विस्तार का ही उपयुक्त समय है, कैबिनेट की खाली सीटों को भर देना चाहिए.

माना जा रहा है कि कैबिनेट विस्तार को लेकर संगठन और सरकार में तय हो चुका है. 18 मार्च को चौथे साल में प्रवेश करने से पहले सीएम कभी भी इसकी घोषणा कर सकते हैं.

लॉबिंग तेज़

कैबिनेट विस्तार की चर्चा के मद्देनजर लॉबिंग भी तेज़ हो गई है. माना जा रहा है कि विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल कैबिनेट मंत्री का पद चाहते हैं. सूत्रों के अनुसार उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाकर उनकी जगह विकासनगर से विधायक मुन्ना सिंह चौहान को विधानसभा अध्यक्ष बनाया जा सकता है. मुन्ना संसदीय कार्यप्रणाली के अच्छे जानकार भी हैं और कानून के ज्ञाता भी.

कुमाऊं से पूर्व कैबिनेट मंत्री और मौजूदा विधायक बलवंत सिंह भौर्याल और पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं मौजूदा विधायक बिशन सिंह चुफाल को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया जा सकता है. इधर राज्य मंत्री धन सिंह रावत के प्रमोशन की भी चर्चा है.

ये भी देखें: 

मंत्रिमंडल विस्तारः अजय भट्ट ने जताई विस्तार की संभावना, हरीश रावत ने कहा- नहीं होगा  

उत्तराखंड को दी गईं चैंपियन की गालियां भूल गई बीजेपी? घर वापसी पर हां नहीं, तो न भी नहीं

Tags: Cabinet reshuffle, Trivendra Singh Rawat, Uttarakhand BJP, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर