अपना शहर चुनें

States

देहरादून में 'रिश्वतखोर रेलवे अधिकारी' के घरों पर CBI Raid 12 घंटे से ज़्यादा समय से जारी, दो हिरासत में

छापेमारी में सीबीआई के 15 से ज़्यादा अधिकारी मौजूद थे जिन्होंने विकासनगर ओर देहरादून में महेंद्र सिंह चौहान का घर खंगाला.
छापेमारी में सीबीआई के 15 से ज़्यादा अधिकारी मौजूद थे जिन्होंने विकासनगर ओर देहरादून में महेंद्र सिंह चौहान का घर खंगाला.

CBI ने रिश्वत लेने के आरोपी महेंद्र चौहान को असम के मालीगांव स्थित एनएफआर मुख्यालय से गिरफ्तार किया था.

  • Share this:
देहरादून. एक करोड़ की रिश्वत लेने के आरोप में फंसे रेलवे अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. रविवार रात को दिल्ली सीबीआई की टीम ने देहरादून स्थित चौहान के घर पर छापा मारा था और देर रात को भी सीबीआई की गाड़ियों की आवाजाही होती रही थी. सुबह तक सीबीआई के पुरुष और महिला अधिकारी चौहान के घर में ही थे और ख़बर लिखे जाने तक छापे की कार्रवाई जारी थी. सूत्रों के अनुसार सीबीआई को लाखों की नगदी और कई जरूरी दस्तावेज हाथ लगे हैं, हालांकि ख़बर लिखे जाने तक सीबीआई ने इसकी पुष्टि नहीं की है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीबीआई को आशीर्वाद एन्क्लेव से लाखों की नकदी हाथ लगी. बताया जा रहा है कि रिश्वतखोरी के इस मामले में चौहान के कुछ परिचितों को भी विकास नगर से हिरासत में लिया गया है. यह भी कहा जा रहा है कि सीबीआई की टीम इन लोगों को कोर्ट में पेश करने के लिए दिल्ली रवाना हो चुकी है.

महेंद्र सिंह चौहान के विकास नगर स्थित पैतृक निवास और देहरादून स्थित घर पर सीबीआई की टीम 12 घंटे तक मौजूद रही. सूत्रों के अनुसार इस छापेमारी में सीबीआई के 15 से ज़्यादा अधिकारी मौजूद थे जिन्होंने विकासनगर और देहरादून में महेंद्र सिंह चौहान का घर खंगाला. देहरादून के आशीर्वाद एन्क्लेव स्थित घर के मालिकाना अधिकार की अब तक पुष्टि नही हो पाई है. अभी यह साफ़ नहीं है कि यह घर महेंद्र सिंह चौहान का है या उसके किसी परिचित का. इस घर में रह रहे किराएदार के अनुसार वे लोग एक कमरे में किराए पर रहते थे, बाकी कमरे रेलवे अधिकारी ने बंद कर रखे थे.



रिश्वतखोरी का सबसे बड़ा मामला
बता दें कि महेंद्र चौहान को असम के मालीगांव स्थित एनएफआर मुख्यालय से सीबीआई ने गिरफ्तार किया था. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दो अन्य व्यक्तियों भूपेंद्र रावत और इंद्र सिंह को देहरादून से गिरफ्तार किया गया है. ये दोनों एबीसीआई इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए काम करते हैं.

रेलवे में रिश्वतखोरी का यह अब तक का सबसे बड़ा मामला माना जा रहा है. सूत्र बताते हैं कि सीबीआई की टीम इस पूरी चेन को ट्रैक करने की कोशिश कर रही है. ज़ाहिर तौर पर इस केस की कई कड़ियां अभी जुड़नी बाकी हैं और जैसे-जैसे यह कड़ियाँ जुड़ेंगी तो पता चलेगा कि यह चेन कितनी बड़ी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज