लाइव टीवी

चार धाम देवस्थानम विधेयक को अदालत में चुनौती देने की तैयारी, तीर्थ पुरोहितों को मिला अखाड़ा परिषद का साथ

Rajesh Dobriyal | News18 Uttarakhand
Updated: December 11, 2019, 2:18 PM IST
चार धाम देवस्थानम विधेयक को अदालत में चुनौती देने की तैयारी, तीर्थ पुरोहितों को मिला अखाड़ा परिषद का साथ
महापंचायत के एक प्रतिनिधिमंडल ने हरिद्वार में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष निरंजन आनंद गिरी महाराज से मुलाकात की और उन्हें मौजूदा स्थिति के बारे में बताया.

निरंजन आनंद गिरी महाराज ने कहा कि वह जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह से मिलकर फैसला वापस लेने के लिए सरकार को बाध्य करेंगे.

  • Share this:
देहरादून. चार धाम देवस्थानम प्रबंधन विधेयक, 2019 (Char dham devsthanam management bill, 2019) पारित किए जाने का देवभूमि तीर्थ पुरोहित और हक-हकूकधारी महापंचायत (tirth purohit and haq-haqookdhari mahapanchayat) ने तीव्र विरोध किया है. देहरादून में महापंचायत की बैठक में सरकार के इस निर्णय पर आक्रोश जताते हुए सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया की सरकार के इस फैसले को हाईकोर्ट  में चुनौती देने का फ़ैसला किया गया. महापंचायत के एक प्रतिनिधिमंडल अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhada parishad) के अध्यक्ष निरंजन आनंद गिरी महाराज (niranjan aanand giri maharaj) से भी मिला, जिन्होंने इस मुद्दे पर साथ देने का वादा किया.

9 सदस्यीय कोर कमेटी बनाई

मंगलवार शाम विधेयक पारित होते ही देवभूमि तीर्थ पुरोहित, हक-हकूकधारी महापंचायत के अध्यक्ष कृष्णकांत कोटियाल की अध्यक्षता में एक आपात बैठक की गई. इसमें निर्णय लिया गया विधेयक को न्यायालय में चुनौती देने के लिए विधि विशेषज्ञों की 9 सदस्यीय कोर कमेटी का गठन किया गया है.

जल्दी ही यह कोर कमेटी सभी तथ्यों का अध्ययन और विश्लेषण करने के बाद नैनीताल हाईकोर्ट में केस दायर करेगी.

विश्वासघात

महापंचायत के महामंत्री हरीश डिमरी ने कहा कि सरकार ने तीर्थ पुरोहितों और हक-हकूकधारियों के साथ विश्वासघात किया है. विधेयक को जिस जल्दबाज़ी में सदन से पारित किया गया, उससे सरकार की मंशा पर संदेह होता है.

डिमरी ने कहा कि महापंचायत ने इसके विरोध में जो कार्यक्रम तय किए थे, उसी के अनुसार पुरोहित और हक-हकूकधारी महापंचायत के बैनर तले विरोध प्रदर्शन करेंगे. पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 18 दिसंबर को उत्तरकाशी में विशाल आक्रोश रैली और 20 दिसंबर को श्रीनगर में महारैली की जाएगी.पीएम, गृह मंत्री से मिलेंगे अखाड़ा परिषद अध्यक्ष

उधर महापंचायत के एक प्रतिनिधिमंडल ने हरिद्वार में अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष निरंजन आनंद गिरी महाराज से मुलाकात की और उन्हें मौजूदा स्थिति के बारे में बताया. तीर्थ पुरोहितों ने अखाड़ा परिषद अध्यक्ष को कहा कि सरकार ने धोखे में रखकर इस विधेयक को सदन से पारित किया है.

निरंजन आनंद गिरी महाराज ने कहा कि वह इस मुद्दे पर तीर्थ पुरोहितों के साथ हैं और जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह से मिलकर फैसला वापस लेने के लिए सरकार को बाध्य करेंगे. उन्होंने संकेत दिए कि कुंभ मेले को लेकर बुधवार को मुख्यमंत्री के साथ होने वाली संतों की बैठक में भी यह मामला उठ सकता है.

ये भी देखें: 

नाम बदल चार धाम श्राइन बोर्ड विधेयक पारित, विधानसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित 

कांग्रेस की चार धाम श्राइन बोर्ड विधेयक को प्रवर समिति में भेजने की मांग

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 2:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर