Home /News /uttarakhand /

char dham yatra begins today why daily limit of pilgrims set uttarakhand police faces challenges

Char Dham Yatra 2022 आज से : क्यों तय की गई श्रद्धालुओं की डेली लिमिट? पुलिस के लिए क्या है बड़ी चुनौती?

गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही चार धाम यात्रा मंगलवार से शुरू हो रही है.

गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ ही चार धाम यात्रा मंगलवार से शुरू हो रही है.

Char Dham Yatra 2022 : बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धामों के लिए एक दिन में कुल 38,000 यात्रियों को ही जाने की इजाज़त मिलेगी. सरकार ने यह लिमिट तो तय कर दी है लेकिन इसकी वजह क्या है? ये भी जानें कि पुलिस के लिए इसे लागू करना क्यों चुनौती बन रहा है.

अधिक पढ़ें ...

देहरादून. चार धाम यात्रा 3 मई से शुरू हो रही है और रोज़ाना कितने यात्री इस यात्रा में शामिल हो सकेंगे, उत्तराखंड सरकार संख्या तय कर चुकी है. अब यात्रा में क्राउड मैनेजमेंट के लिए सरकार द्वारा की गई इस व्यवस्था को लागू करना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बन रहा है. माना जा रहा है कि इस यात्रा में रिकॉर्ड श्रद्धालु दर्शनों के लिए धामों में पहुचेंगे. नियंत्रण के लिए सरकार ने चार धाम जाने वाले तीर्थयात्रियों की संख्या पर डेली लिमिट लगाई है और अब पुलिस ने यात्रियों से ही अपील की है कि वो इस लिमिट का ध्यान रखें.

इस साल चार धाम यात्रा व्यवस्था के तहत बद्रीनाथ के लिए हर रोज़ 15,000 तीर्थयात्रियों को जाने की इजाजत दी गई है. वहीं केदारनाथ की बात करें तो यहां हर रोज़ केवल 12,000 ही तीर्थयात्री जा पाएंगे. इसी तरह, गंगोत्री में 7000 और यमुनोत्री में 4000 तीर्थयात्रियों को प्रतिदिन जाने की अनुमति मिलेगी. गढ़वाल के डीआईजी एस नगन्याल का कहना है कि यात्रा व्यवस्थाओं के लिए पुलिस हर संभव प्रयास करेगी. उन्होंने यात्रियों से सहयोग की अपील की. अब सवाल है कि ऐसी व्यवस्था क्यों की गई है!

क्यों यात्री संख्या की डेली लिमिट फिक्स हुई?
साल 2013 की आपदा के बाद केदारनाथ धाम में यात्रियों के रहने के लिए सरकार द्वारा अब तक ठोस व्यवस्था नहीं की जा सकी है. ताज़ा स्थिति यह है कि केदारनाथ में 5 से 8 हजार यात्री ही रत्रि विश्राम के लिए ठहर सकते हैं. यहां अस्थायी टेंट शिविरों जैसे इंतज़ाम किए जाने की बातें कही जा रही हैं. इधर, बद्रीनाथ में भी अगर यात्रियों की संख्या बढ़ी, तो खासी दिक्कतें पेश आ सकती हैं.

बद्रीनाथ धाम में मास्टरप्लान के तहत काम चल रहा है, जिससे धाम में कई धर्मशालाओं और निजी भवनों को तोड़ तिया गया है. इस साल बद्रीनाथ में भी श्रद्धालुओं के रुकने की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है. इसलिए सरकार ने प्रतिदिन के हिसाब से यात्रियों की लिमिट तय करने का कदम उठाया है. नगन्याल का कहना है कि हर धाम की कैपेसिटी तय है. ‘यात्रियों से अपील है कि धैर्य से आगे बढ़ें क्योंकि उन्हें रोका जाना उन्हीं के हित के लिए है.’

Tags: Char Dham Yatra, Gangotri-Yamunotri Dham, Uttarakhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर