लाइव टीवी

चारधाम यात्राः तीर्थयात्रियों की मौत पर सरकार गंभीर, बढ़ेंगी मेडिकल सेवाएं
Uttarkashi News in Hindi

News18 Uttarakhand
Updated: May 27, 2018, 11:25 AM IST
चारधाम यात्राः तीर्थयात्रियों की मौत पर सरकार गंभीर, बढ़ेंगी मेडिकल सेवाएं
file photo Badrinath temple

श्रद्धालुओं की मौत ने शासन की भी चिंता बढा दी है. शायद यही वजह है कि यात्रा मार्गों पर हुई यात्रियों की मृत्यु का अब शासन डेली डिटेल टेस्ट कराने का फैसला लिया है ताकि यात्रियों की मौत की हकीकत सामने आए.

  • Share this:
उत्तराखंड की विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा के इस सीजन में एक ओर भक्तों की रिकॉर्ड तोड़ भीड़ रही है, वहीं यात्रा इस बार मौत के सारे आंकड़े भी तोड़ देने पर आमादा होती हुई नजर आ रही है. दरअसल अब तक चारधाम यात्रा पर करीब 35 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें सबसे ज्यादा मौत बाबा केदार के यात्रा मार्ग में हुई है. श्रद्धालुओं की मौत ने शासन की भी चिंता बढा दी है. शायद यही वजह है कि यात्रा मार्गों पर हुई यात्रियों की मृत्यु का अब शासन डेली डिटेल टेस्ट कराने का फैसला लिया है ताकि यात्रियों की मौत की हकीकत सामने आए.

चारधाम यात्रा मार्गों से जुड़े सरकारी तंत्र ने सरकार की इस योजना पर भी कार्य करना शुरू कर दिया है कि इन सभी मौतों को कैसे रोका जाए. चार धाम यात्रा पर जिन लोगों की मौत हुई है उनमें ज्यादातर लोग उम्रदराज हैं और अधिकांश लोगों की मौत हृदय गति रुकने के कारण हुई है.

केदारनाथ में दस बेड का अस्पताल

शासन ने पूर्व की यात्राओं से सबक लेते हुए इस बार केदारनाथ धाम में 10 बेड का एक चिकित्सालय भी बनवाया है. जिसमें निंरतर ऐसे लोगों का इलाज किया जाता है जिनको स्वास्थ्य संबंधी परेशानी होती हैं. मुख्य सचिव उत्पल कुमार की मानें तो इस यात्रा सीजन में जिस तरह से लोग यात्रा के दौरान काल के ग्रास में समा रहे हैं. उसके बाद व्यवस्थाओं में परिवर्तन करते हुए अब उन स्थानों पर डॉक्टरों की तैनाती की जायेगी, जहां पर यात्रियों को ज्यादा परेशानी हो रही है.



कठिन मार्गों में तैनात होंगे डॉक्टर

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बताया कि फिलहाल सरकार ने केदारनाथ धाम में दो कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर भी तैनात किए हैं. इतना ही नहीं शासन ने व्यवस्थाओं की देखरेख करने वाले अधिकारियों को ये निर्देश दिये हैं कि ऐसे स्थानों का चिन्हीकरण करें जहां पर ये घटनाएं घटित हो रही हैं. उसके बाद शासन की तरफ से उसी जगह पर मेडिकल की सारी व्यवस्थाएं की जाएगी ताकि भविष्य मे होने वाली मौत की घटनाओं पर लगाम लगाई जा सके.

मौतों की होगी जांच

चारधाम यात्रा मार्गों पर हुई यात्रियों की मौत की शासन जांच भी करवा रहा है ताकि यह पता लगाया जा सके कि स्वभाविक तौर पर यात्रियों की मौत कैसे हुई है और मृत्यु के क्या कारण रहे है. इसके साथ ही क्या इन्हें मेडिकल फैसिलिटी जल्द नहीं मिल पाई. इन सब की जांच करवाने के साथ ही अब शासन-प्रशासन मैडिकल फैसिलिटी को सुधारने की कवायद में भी जुट गया है.

गौरतलब है कि केदारनाथ धाम में अब तक करीब 25 लोगों की मौत हुई है जबकि गंगोत्री और यमुनोत्री में 10 लोगों ने प्राण त्यागे हैं, वहीं बद्रीनाथ मार्ग में मौत का ये आंकड़ा दो है.

(रिपोर्ट - सोनू सिंह)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उत्‍तरकाशी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 27, 2018, 9:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर