सचिवालय, विधानसभा में प्रवेश के लिए बनेंगे ई-पास, ऑनलाइन होगा आवेदन

ई-पास सिस्टम के सम्बन्ध में आईटीडीए के माध्यम से सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है और गेट पास बूथ से गेट पास हेतु कम्प्यूटर भी स्थापित कर दिया गया है.

ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 14, 2018, 6:56 PM IST
सचिवालय, विधानसभा में प्रवेश के लिए बनेंगे ई-पास, ऑनलाइन होगा आवेदन
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिवालय, विधानसभा में प्रवेश हेतु आगन्तुकों के लिए ई-गेट पास सिस्टम की शुरुआत की.
ETV UP/Uttarakhand
Updated: March 14, 2018, 6:56 PM IST
उत्तराखंड विधानसभा और सचिवालय में प्रवेश के लिए आगन्तुकों, कर्मचारियों और कार के लिए गेट पास अब किसी भी स्थान और किसी भी समय बनाया जा सकता है. मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को सचिवालय में सचिवालय, विधानसभा में प्रवेश हेतु आगन्तुकों के लिए ई-गेट पास सिस्टम की शुरुआत की.

सचिवालय, विधानसभा में वर्तमान पास व्यवस्था के साथ-साथ ई-पास व्यवस्था लागू की गई है. यह स्वचालित व्यवस्था है. आगन्तुकों, कर्मचारियों तथा कार के लिए किसी भी स्थान तथा किसी भी समय गेट पास बनाया जा सकता है. ई-पास व्यवस्था हेतु पूर्व-पंजीकरण करवाया जा सकता है.

इससे बाहर से आने वाले आगन्तुकों की पहचान आसानी से हो सकेगी. इससे गेट पास में एक्यूरेसी आएगी, ज्यादा साफ फोटाग्राफ़ और एमआईएस (MIS) रिर्कोडिग सुनिश्चित होगी.

ई-पास व्यवस्था हेतु आगन्तुक अपने तथा अपने वाहन के लिए सम्बन्धित अधिकारी से निर्धारित तिथि पर मिलने के लिए गेट पास हेतु eGatepass-uk.in पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

एक बार आगन्तुक द्वारा गेट पास हेतु आवेदन करने पर एप्लीकेशन द्वारा सम्बन्धित कार्यालय को स्वीकार, अस्वीकार करने के लिए भेजा जाएगा. एक बार आवेदन स्वीकार होने पर आगन्तुक को उनके उनके मोबाइल और ई-मेल पर एक ओटीपी भेजा जाएगा. आगन्तुक ओटीपी भरकर गेट पास के बूथ पर गेट पास प्रिंट कर सकता है. आगन्तुक गेट पास एप पर भी गेट पास हेतु आवेदन कर सकता है.

निदेशक आईटीडीए अमित सिन्हा ने बताया कि ई-पास सिस्टम के सम्बन्ध में आईटीडीए के माध्यम से सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है और गेट पास बूथ से गेट पास हेतु कम्प्यूटर भी स्थापित कर दिया गया है जिसका संचालन सुरक्षा कर्मिकों के द्वारा किया जा रहा है. साथ ही ई-गेट पास सुविधा के सम्बन्ध आईटीडीए के माध्यम से सचिवालय, विधानसभा में तैनात 92 निजी सचिवों को व्यवहारिक प्रशिक्षण भी दिया जा चुका है.

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश, सचिव मुख्यमंत्री राधिका झा भी उपस्थित थीं.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर