10 महीने बाद खुले उत्तराखंड के यूनिवर्सिटी, कॉलेज... पहले दिन कम ही आए छात्र-छात्राएं

एमकेपी पीजी कॉलेज में कॉलेज खुलने के पहले दिन जो छात्राएं नज़र आई, उनमें प्रेक्टिकल सब्जेक्ट की छात्राएं ज़्यादा थीं.

कोरोना का खतरा अब भी बरकरार है, ऐसे में नॉन प्रैक्टिकल सब्जेक्ट की क्लास फिलहाल ऑनलाइन चलेंगी.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में करीब 10 महीने के बाद मंगलवार से यूनिवर्सिटी और कॉलेज खुल गए हैं. हालांकि पहले दिन यूनिवर्सिटी और कॉलेज में स्टूडेंट्स कम ही नज़र आए. माना जा रहा है कि छात्र-छात्राओं की संख्या धीरे-धीरे बढ़ेगी. अभी प्रेक्टिकल विषयों की पढ़ाई के लिए कॉलेज आने की अनुमति है. शिक्षा विभाग की ओर से कॉलेज-यूनिवर्सिटी को जारी गाइड लाइन्स में साफ कहा गया है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए नियमों का पालन किया जाए.

धीरे-धीरे बढ़ेगी संख्या 

देहरादून की जानी-मानी दून यूनिवर्सिटी में पहले दिन स्टूडेंट्स कम नज़र आए. हालांकि कुलपति अजीत कुमार कर्नाटक का कहना है कि धीरे-धीरे स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ेगी. हर स्टूडेंट के लिए ज़रूरी होगा कि कोविड के मद्देनजर वह अपने पेरेंट्स से सहमति पत्र लेकर आए. दूसरे राज्यों से आने वाले स्टूडेंट्स को एंट्री के साथ कोविड रिपोर्ट भी देनी होगी.

देहरादून में गर्ल्स कॉलेज, एमकेपी पीजी कॉलेज में कॉलेज खुलने के पहले दिन जो छात्राएं नज़र आई, उनमें प्रेक्टिकल सब्जेक्ट की छात्राएं ज़्यादा थीं. फिजिक्स, कैमिस्ट्री जैसे सब्जेक्ट में छात्राएं प्रैक्टिकल करती नज़र आईं. स्टूडेंट्स का कहना है कि कोविड का डर ज़रूर है लेकिन कॉलेज खुलने से अब आसानी से सब्जेक्ट की पढ़ाई हो सकेगी.

प्रेक्टिकल सब्जेक्ट की क्लासिस

एमकेपी कॉलेज की प्रिंसिपल का कहना है कि सभी स्टूडेंट्स को मैसेज कर दिया गया है कि वे मास्क, सैनिटाइज़र, अभिभावकों का अनुमति पत्र साथ लेकर आएं. हालांकि पहले दिन एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स ज़्यादा रहे.

उत्तराखंड में कॉलेज-यूनिवर्सिटी में फिलहाल प्रेक्टिकल सब्जेक्ट की ही क्लास होंगी ताकि प्रैक्टिकल करने वाले स्टूडेंट्स को किसी तरह की दिक्कत न हों. वहीं कोरोना का खतरा अब भी बरकरार है, ऐसे में नॉन प्रैक्टिकल सब्जेक्ट की क्लास फिलहाल ऑनलाइन चलेंगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.