निकाय चुनावः ‘उस डबल इंजन’ सरकार में जो हुआ था, 'इस डबल इंजन' में भी होगा!

Manish Kumar | News18 Uttarakhand
Updated: November 20, 2018, 12:50 PM IST
निकाय चुनावः ‘उस डबल इंजन’ सरकार में जो हुआ था, 'इस डबल इंजन' में भी होगा!
2013 में निकाय चुनाव के समय कांग्रेस विजय बहुगुणा बतौर मुख्यमंत्री कांग्रेस का नेतृत्व कर रहे थे जैसे अब त्रिवेंद्र सिंह रावत बीजेपी का कर रहे हैं.

2013 में प्रदेश और केन्द्र दोनों ही जगहों पर कांग्रेस की सरकारें थीं और इस बार दोनों ही जगहों पर भाजपा की है. तब भी राज्य में सरकार बनने के डेढ़ साल के भीतर निकाय चुनाव हुए थे और इस बार भी वैसा ही हो रहा है.

  • Share this:
प्रदेश के शहरों और कस्बों में नयी सरकार बनने जा रही है. कुछ ही समय बाद पता चल जाएगा कि कौन कितने पानी में है लेकिन, दो-तीन महत्वपूर्ण पहलू हैं इस नगर निकाय इलेक्शन के, जिनपर ध्यान देना ज़रूरी है. 2018 में हो रहे इस चुनाव में राजनीतिक समीकरण कमोबेश वैसे ही हैं जैसे इसके पहले 2013 में थे. मसलन, 2013 में प्रदेश और केन्द्र दोनों ही जगहों पर कांग्रेस की सरकारें थीं और इस बार दोनों ही जगहों पर भाजपा की है. तब भी राज्य में सरकार बनने के डेढ़ साल के भीतर निकाय चुनाव हुए थे और इस बार भी वैसा ही हो रहा है. लिहाजा यह फिर से कहा जा रहा है कि ये चुनाव सरकार के कामकाज को आइना दिखाएंगे.

यह कहना ग़लत नहीं होगा कि चुनाव का सही आकलन तब तक नहीं हो सकता जब तक इसका तुलनात्मक अध्ययन न किया जाए. इस बार किसने बाजी मारी इसके लिए यह जानना ज़रूरी है कि पिछली बार चुनाव में पार्टियों की क्या स्थिति रही थी. तो आइये जानते हैं कि नगर निकाय चुनाव में चार स्तरों पर वोटिंग होती है.

  1. नगर निगम,


  2. नगर पालिका परिषद,

  3. नगर पंचायत,

  4. वार्ड मेम्बर (निगमों में जिन्हें सभासद कहते हैं)

  5. Loading...


2013 के स्थानीय निकाय चुनावों के परिणाम सत्तारूढ़ कांग्रेस के लिए खुशी से ज्यादा गम लेकर आए थे. कांग्रेस को मेयर के 6 पदों में से एक भी नसीब नहीं हुआ था लेकिन पार्टी को थोड़ी राहत नगर पालिकाओं में अच्छी जीत से मिली थी. हालांकि नगर पंचायत के चुनाव में भी कांग्रेस को मुंह की ही खानी पड़ी थी. वार्ड मेम्बर या सभासदों के मामले में भी सत्तारूढ़ कांग्रेस को विपक्षी भाजपा ने मात दे दी थी. नीचे देखिए 2013 के नतीजों के बाद राजनीतिक पार्टियों की कैसी सूरत थी.

































पद/निकाय संख्या भाजपा कांग्रेस निर्दलीय व अन्य
मेयर 6 4 0 2
नगर पालिका परिषद 28 5 13 10
नगर पंचायत 35 13 7 15
वॉर्ड 690 180 135 375

इस आंकड़े से पता चलता है कि सत्तारूढ़ कांग्रेस सिर्फ नगर पालिकाओं पर कब्जा करने में ही सफल रही थी. इस बार प्रदेश में भाजपा की सरकार है और वह भी प्रचण्ड बहुमत वाली. इसलिए यह देखना दिलचस्प होगा कि किस हद तक भाजपा अपनी लाज बचा पा रही है और कांग्रेस किस हद तक खोई ज़मीन वापस कर पा रही है.

VIDEO: पूर्व सीम विजय बहुगुणा ने हर जगह बीजेपी की जीत का किया दावा

निकाय चुनाव में मतदान ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, प्रदेश भर में 69.79 फ़ीसदी मत पड़े

निकाय चुनावः मतगणना 20 से लेकिन नतीजे आएंगे 21 को

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2018, 9:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...