देहरादून में कर्फ्यू के बाद भी दोगुनी रफ्तार से बढ़ा कोरोना, प्रदेश की हॉटस्पॉट बनी राजधानी

देहरादून में कोरोना कर्फ्यू के बावजूद संक्रमण की रफ्तार दोगुना हो गई है.

देहरादून में कोरोना कर्फ्यू के बावजूद संक्रमण की रफ्तार दोगुना हो गई है.

कोरोना महामारी में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने देहरादून में कोविड कर्फ्यू का प्लान बनाया, लेकिन प्रशासन का कोविड कर्फ्यू प्लान औंधे मुंह गिर गया है, अब शहर में कर्फ्यू के बाद भी संक्रमण दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा है.

  • Last Updated: May 10, 2021, 10:31 PM IST
  • Share this:

देहरादून. उत्तराखंड की राजधानी देहरादून इन दिनों प्रदेश में हॉटस्पॉट बन गई है. यहां पर कोरोना कर्फ्यू लागू होने के बाद भी संक्रमण की रफ्तार दोगुनी हो गई है. बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रशासन ने देहरादून में कोविड कर्फ्यू का प्लान बनाया, लेकिन प्रशासन का प्लान औंधे मुंह गिरा है. शहर में कर्फ्यू के बाद भी कोरोना संक्रमण दोगुनी रफ्तार से बढ़ रहा है.

कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए जिलाधिकारी ने देहरादून में कोविड कर्फ्यू 26 अप्रैल को लगाया था. जिसमें जिलाधिकारी का मानना था कि इस कोविड कर्फ्यू से कोरोना की चेन ब्रेक होगी और बढ़ते संक्रमण पर कुछ हद तक रोक लगेगी. लेकिन इस कर्फ्यू का कोई भी असर देखने को नही मिला. इन 14 दिनों के कोविड कर्फ्यू का आंकड़ा देखें तो कोविड मात्र 14 दिनों में दोगुनी रफ्तार से आगे बढ़ा है.

Youtube Video

25 अप्रैल को पूरे राज्य में 4368 कोविड के मामले सामने आये थे, जिसमें 44 मौतें कोविड से हुईं. इसमें देहरादून में अकेले 1670 लोग पॉजिटिव आये थे, जिसके बाद प्रशासन ने कोविड कर्फ्यू लगाया और 14 दिनों में ये आंकड़े दोगुने हो गये हैं. अब राज्य में 8 मई को 8390 कोविड पॉजिटिव, 118 की मौत हुई है. इसमें अकेले देहरादून में ही 3430 लोग पॉजिटिव केस मिले. वहीं जिलाधिकारी आज भी अपने प्लान को सही बता रहे हैं और पॉजिटिव रेट बाहर से आने वाले बताये जा रहे हैं.
इधर, पुलिस इस कर्फ्यू में आज भी कई चूक बता रही है, डीजीपी अशोक कुमार कहते हैं कि कोविड कर्फ्यू के बावजूद केस बढ रहे है. कर्फ्यू मामले में भले ही  प्रशासन और पुलिस फेल पास गिनवा रही हो, लेकिन कर्फ्यू के बावजूद मामले तेजी से बढ़ रहे हैं तो कहीं न कहीं चूक तो रही है. मामलों में इजाफा न हो इसलिए प्रशासन को एक बार फिर से सख्त कदम उठाने की जरूरत है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज