Corona: जुलाई-अगस्त में ही हो पाएंगे यूनिवर्सिटी एग्ज़ाम्स... ज़्यादातर कॉलेज बने हैं क्वारंटीन सेंटर
Dehradun News in Hindi

Corona: जुलाई-अगस्त में ही हो पाएंगे यूनिवर्सिटी एग्ज़ाम्स... ज़्यादातर कॉलेज बने हैं क्वारंटीन सेंटर
राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस में बात की

विश्वविद्यालयों ने 12वीं और NEET, JEE परीक्षाओं के देरी से होने के कारण एडमिशन प्रक्रिया में भी देर होने की बात कही.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
देहरादून. उत्तराखंड में कई कॉलेज स्टूडेंट्स जुलाई में एग्ज़ाम कराने का विरोध कर रहे हैं तो कुछ यूनिवर्सिटीज़ भी एग्ज़ाम्स में जल्दबाज़ी न करने के हक में दिख रही है. यह बात राज्यपाल बेबी रानी मौर्य की विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस में निकलकर आई. वीडियो कांफ़्रेंस के ज़रिए की गई बैठक में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने विश्वविद्यालयों से उनकी वर्तमान और आगामी सत्रों की कार्ययोजना पूछी. साथ ही ऑनलाइन पढ़ाई, कोर्स पूरा होने की स्थिति, टीचर्स, स्टाफ, स्टूडेंट्स की सुरक्षा की कार्ययोजना पर बात की. वीसी में कहा गया कि यूनिवर्सिटी एग्ज़ाम्स की तैयारियों के साथ ही 21 जून को होने वाले योग दिवस पर भी विश्वविद्यालय ऑनलाइन  जागरूकता कार्यक्रम करें.

एग्ज़ाम्स कराने में दिक्कत

पंतनगर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर तेजप्रताप ने कहा कि विश्वविद्यालय के ज्यादातर कैम्पस,  हॉस्टल क्वारंटीन सेंटर में तब्दील हैं. खाली होने के बाद ही इनकी साफ़-सफ़ाई कराकर दोबारा उपयोग में लाया जा सकेगा. उन्होंने बताया कि अगले सत्र में प्रवेश परीक्षा नहीं लेंगे, मेरिट के आधार पर प्रवेश देंगे. अगस्त महीने में लास्ट ईयर के स्टूडेंट्स के एग्ज़ाम्स होंगे, जिसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है.



तकनीकि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर एनएस चौधरी ने कहा कि फोर्थ ईयर के इंजीनियरिंग के एग्ज़ाम्स 25 जुलाई के आस-पास करवाने की पूरी तैयारी है.



कुमाऊं विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर एनके जोशी ने कहा कि उनके ज्यादातर महाविद्यालय क्वारंटीन सेंटर बनाये गए हैं. उनके खाली होने पर ही एग्ज़ाम्स होंगे. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन क्लास के ज़रिए 75 प्रतिशत कोर्स पूरा हो गया है.

डॉक्टर जोशी ने बताया कि फाइनल परीक्षा से पहले स्टूडेंट्स को 10-12 दिन कोर्स का रिवीज़न भी कराने की योजना है. कुमाऊं विश्वविद्यालय में प्रवासियों को ध्यान में रखते हुए स्किल डेवलेपमेंट सेंटर बनाए गए हैं. साथ ही तय किया गया है कि हर टीचर को ऑनलाइन पाठ्यक्रम तैयार करेगा. प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए एक सेल बना रहे हैं, जहां सीनियर स्टूडेण्ट जूनियर स्टूडेंट्स की सहायता करेंगे. उन्होंने अगस्त से पहले एग्ज़ाम्स कराने में असमर्थता जताई.

श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर पीपी ध्यानी ने भी संबद्ध कॉलेजों के क्वारंटीन सेंटर होने के कारण जुलाई माह के आखिर तक ही एग्ज़ाम्स कराने की बात कही. उन्होंने कहा कि यूनिवर्सिटी का 80 फ़ीसदी कोर्स  पूरा हो गया है. उन्होंने बताया कि लास्ट ईयर के स्टूडेंट्स की परीक्षा ऑब्जेक्टिव मोड में ली जाएगी और ओएमआर शीट का इस्तेमाल होगा. परीक्षा टाइम भी कम किया जाएगा.

दून विश्वविद्यालय का प्रभार देख रहे और भरसार औद्यानिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर कर्नाटक ने बताया कि 7 जून तक दून विश्वविद्यालय का कोर्स पूरा हो जाएगा. दून विश्वविद्यालय भी जुलाई के आखिर तक एग्ज़ाम्स करा सकता है.

उन्होंने यह भी बताया कि औद्यानिकी विश्वविद्यालय हाई क्वालिटी के सेब उत्पादन पर काम कर रहा है. इसके साथ ही जैविक खेती, औद्यानिकी के माध्यम से ग्रामीणों की आजीविका सुधार पर भी काम कर रहा है.

संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर देवी प्रसाद त्रिपाठी ने बताया कि उनके यहां छात्र परिषद ने ऑनलाइन परीक्षाओं और बिना परीक्षा के अगली कक्षा में प्रमोट करने पर असहमति व्यक्त की है. संस्कृत विश्वविद्यालय 15जुलाई तक परीक्षाएं कराने के लिए तैयार है.

चिकित्सा शिक्षा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर हेमचन्द्र ने बताया कि उनके तीनों मेडिकल कॉलेज कोविड अस्पताल हैं. उन्होंने बताया कि एमबीबीएस फर्स्ट ईयर के एग्ज़ाम्स सितम्बर और सेकंड और थर्ड ईयर के एग्ज़ाम्स जनवरी 2021 में कराए जा सकते हैं. उन्होंने बताया कि नर्सिंग-पैरामेडिकल कोर्सेज की परीक्षाएं सितम्बर-अक्टूबर में कराने की पूरी तैयारी है. 75 परसेंट कोर्स पूरा हो चुका है.

सभी विश्वविद्यालयों 12वीं की परीक्षा और एनईईटी, जेईई जैसी परीक्षाओं के देरी से होने के कारण एडमिशन प्रक्रिया में भी देरी ही होने की बात कही.

ये भी देखें: 
First published: June 4, 2020, 6:47 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading