उत्तराखंड: किस पैटर्न पर होंगे हायर एजुकेशन के एग्जाम? इन 3 ऑप्शन पर चल रहा विचार

एमपी में उच्च शिक्षा विभाग ने यूनिवर्सिटी परीक्षाओं के लिए जारी कीं गाइड लाइंस
एमपी में उच्च शिक्षा विभाग ने यूनिवर्सिटी परीक्षाओं के लिए जारी कीं गाइड लाइंस

उत्तराखंड (Uttarakhand) में एक लाख से ज़्यादा स्टूडेंट्स सरकारी यूनिवर्सिटी और कॉलेज में पढ़ते हैं, जबकि करीब 4 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स प्राइवेट यूनिवर्सिटी और इंस्टीट्यूट्स में हैं.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से हर कोई परेशान है. ऐसे में स्टूडेंट्स की भी मुश्किलें बढ़ गई हैं. हायर एजुकेशन (Higher Education) में हजारों स्टूडेंट्स के सामने सवाल है कि एग्जाम कब होंगे? वैसे तो उत्तराखंड के उच्च शिक्षा विभाग ने साफ कर दिया है कि जुलाई में एग्जाम होंगे. उसके बाद रिजल्ट और फिर एक सितंबर से नया सेशन शुरू हो जाएगा, लेकिन जिस तरह उत्तराखंड में रोज़ाना कोरोना के मरीज़ बढ़ रहे हैं. इसे देखते हुए अभी संशय के बादल छाए हुए हैं. चिंता इस बात की है कि एग्जाम की बात तो विभाग कह चुका है, लेकिन अगर हालात ठीक नहीं रहे और कोरोना का कहर बढ़ता गया तो एग्जाम होंगे कैसे?

उत्तराखंड में एक लाख से ज़्यादा स्टूडेंट्स सरकारी यूनिवर्सिटी और कॉलेज में पढ़ते हैं, जबकि करीब 4 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स प्राइवेट यूनिवर्सिटी और इंस्टीट्यूट्स में हैं. उत्तराखंड के उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत का कहना है कि कोरोना के हालात को देखते हुए 3 एग्जाम पैटर्न के ऑप्शन पर विचार किया जा रहा है. धन सिंह रावत के मुताबिक, लॉकडाउन के फेज़-4 के खत्म होने और जून महीने के हालात से तय होगा कि एग्जाम किस पैटर्न पर होंगे.

शिक्षा मंत्री ने कहा कि पहला ऑप्शन यह है कि हालात ठीक रहे तो सभी स्टूडेंट्स के एग्जाम पुराने पैटर्न पर कॉलेजों में होंगे. दूसरा ये कि हालात खराब हुए तो फर्स्ट और सेकेंड ईयर को छोड़ सिर्फ फाइनल ईयर के एग्जाम होंगे. तीसरा ये कि अगर कोरोना बेकाबू हुआ तो फिर घर पर ऑनलाइन एग्जाम की व्यवस्था की जाएगी. वहीं, 80 हज़ार स्टूडेंट्स वाली श्रीदेव सुमन यूनिवर्सिटी के कुलपति की चिंता बढ़ी हुई है. उनका कहना है कि दूरदराज के इलाकों में जहां इंटरनेट नहीं है. वहां स्टूडेंट्स का 20 परसेंट से 30 परसेंट कोर्स बाकी है और 7 जून तक कोर्स पूरा करना है. इसलिए यूनिवर्सिटी की कमेटी इस पर विचार कर रही है कि क्या स्टूडेंट्स को सीधे प्रमोट कर दिया जाए.



ये भी पढ़ें- 
हाईवे पर 'द बर्निंग कार' बनी स्कॉर्पियो, 7 प्रवासी मजदूरों ने ऐसे बचाई जान

वृंदावन की विधवाओं के सामने गुजारे का संकट, काम बंद होने से आमदमी रुकी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज