और भी कई मामलों में है NH-74 जैसे एक्शन का इंतज़ार

राज्य में कई घोटालों में एसआईटी का गठन भी किया गया है लेकिन अब तक इनमें कोई ठोस कार्रवाई होती नहीं दिख रही है.

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: September 12, 2018, 6:18 PM IST
और भी कई मामलों में है NH-74 जैसे एक्शन का इंतज़ार
एनएच 74 घोटाले में 2 आईएएस अधिकाीरियों के निलंबन के बाद अन्य घोटालों में भी कार्रवाई की उम्मीद की जा रही है. फ़ाइल फ़ोटो- मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत
Sunil Navprabhat
Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: September 12, 2018, 6:18 PM IST
एनएच 74 घोटाले में दो आईएएस अफसरों समेत कुल 24 अधिकारियों पर सरकार ने करप्शन के खिलाफ ‘जीरो टॉलरेंस’ का मैसेज देने की कोशिश की है लेकिन अब भी कई मामले ऐसे हैं जिनकी जांच पर एक्शन होना बाकी है. राज्य में कई घोटाले डेढ़ साल से चर्चा में हैं. कई मामलों में एसआईटी का गठन भी किया गया है लेकिन अब तक इनमें कोई ठोस कार्रवाई होती नहीं दिख रही है. सरकार ने एनएच 74 घोटाले पर जैसे चोट की है वैसी ही कार्रवाई की उम्मीद दूसरे मामलो में भी की जा रही है.

आइए एक नज़र ऐसे मामलों पर जिनकी जांच की रफ़्तार सुस्त चल रही है....

  • राज्य में सैकड़ों करोड़ के छात्रवृत्ति घोटाले की जांच एसआईटी को सौंपने का ऐलान किया गया था.


  • कुमाऊं में अक्टूबर 2017 में सामने आए 600 करोड़ के खाद्यान्न घोटाले की जांच के लिए एसआईटी गठित की गई थी.

  • लगभग 6500 शिक्षकों की फर्जी डिग्री मामले में एसआईटी की जांच अब भी जारी है.

  • डोईवाला चीनी मिल में लाखों का गन्ना पर्ची घोटाले का मामला भी एसआईटी के पास है.

  • टीडीसी में 16 करोड़ के गेहूं बीज घोटाले की जांच एसआईटी को सौंपी गई थी, लेकिन ये आदेश भी फाइलों में धूल फांक रहे हैं.


उत्तराखंड में करप्शन बड़ा मुद्दा रहा है और त्रिवेंद्र सरकार अस्तित्व में आने के साथ ही भ्रष्टाचार पर ज़ीरो टॉलरेंस की बात करती रही है. यह पहला मौका है जब राज्य सरकार अपनी इस बात पर खरी उतरती दिखाई दी है. लेकिन इसके साथ ही राज्य सरकार से अब उम्मीद बढ़ गई है कि वह बाकी मामलों में भी सख्ती से कार्रवाई करेगी.

एनएच 74 मुआवजा घोटाला: गलत तरीके से लिया अतिरिक्त मुआवजा लौटाएंगे किसान

एनएच 74 घोटालाः हाईकोर्ट ने सीबीआई से पूछा- अब तक क्या किया
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर