अपना शहर चुनें

States

दुष्कर्म के बाद नाबालिग की हत्या के दोषी को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

भरत सिंह नेगी, अधिवक्ता
भरत सिंह नेगी, अधिवक्ता

जुर्म छिपाने के लिए उसने बच्ची का शव पेड़ से लटका दिया ताकि लोगों को ऐसा लगे कि बच्ची ने आत्महत्या की है.

  • Share this:
नाबालिग से दुष्कर्म के बाद उसकी हत्या कर पेड़ से शव लटकाने के आरोपी मोहम्मद अजहर को रमा पांडेय की पॉक्सो कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है. इसके साथ ही दुष्कर्म के आरोप में आजीवन कारावास और 70 हजार रुपये का आर्थिक दंड भी लगाया है. इसमें से 50 हजार रुपये मृतका के परिजनों को दिए जाने हैं. न्यायालय के इस फैसले का पीड़ित परिवार ने स्वागत किया है. पीड़ित परिवार ने न्यायपालिका का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अब जाकर उनकी बेटी को न्याय मिला है.

आपको बता दें कि मामला 2016 का है जब चकराता के भदरौली में आरोपी अजहर नाबालिग बच्ची को बहला फुसलाकर अपने साथ ले गया और उसके साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी गला दबाकर हत्या कर दी. इसके बाद अपना जुर्म छिपाने के लिए उसने बच्ची का शव पेड़ से लटका दिया ताकि लोगों को ऐसा लगे कि बच्ची ने आत्महत्या की है.

बता दें कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची के साथ दुष्कर्म किए जाने की पुष्टि हो चुकी थी. अधिवक्ता भरत सिंह नेगी ने कहा कि कोर्ट ने आईपीसी 376 के तहत अभियुक्त को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. साथ ही 70 हजार रुपयों का जुर्माना किया गया है. इसमें से 20 हजार रुपया सरकारी कोष में जमा होगा. पीड़ित परिवार को 50 हजार रुपये दिए जाएंगे. अभियुक्त ने नृशंस हत्या की है. इसके लिए कोर्ट ने अभियुक्त को धारा 302 के तहत मृत्युदंड की सजा सुनाई है.



ये भी पढ़ें - जल्द ही बिना यूपी जाए पहुंचें देहरादून से कोटद्वार... लालढांग-चिल्लरखाल मार्ग की अड़चनें दूर
ये भी पढ़ें - विधानसभा चुनाव नतीजों का असर... भाजपा पर बढ़ा दायित्व बांटने और मंत्रिमंडल विस्तार का दबाव

Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज