COVID-19: AIIMS ऋषिकेश में भर्ती मरीज की तीमारदार में कोरोना वायरस की पुष्टि
Dehradun News in Hindi

COVID-19: AIIMS ऋषिकेश में भर्ती मरीज की तीमारदार में कोरोना वायरस की पुष्टि
पौड़ी गढ़वाल निवासी एक मरीज की महिला तीमारदार की जांच रिपोर्ट में सोमवार देर रात कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है. (सांकेतिक फोटो)

अधिकारी ने बताया कि संक्रमित पाई गई महिला का मरीज 15 से 26 अप्रैल तक एम्स के यूरोलॉजी वार्ड (Urology Ward) में भर्ती रहा था. इस बीच वह किसी कोरोना वायरस संक्रमित के संपर्क में आई होगी.

  • Share this:
ऋषिकेश. उत्तराखंड के ऋषिकेश (Rishikesh) स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में भर्ती एक मरीज की महिला तीमारदार कोरोना वायरस (Corona virus) से संक्रमित पाई गयी है. पिछले 11 दिनों के अंदर अस्पताल में कोरोना वायरस संक्रमण का यह सातवां मामला है. ऋषिकेश की अतिरिक्त उपजिलाधिकारी अपूर्वा पांडे ने बताया कि पौड़ी गढ़वाल निवासी एक मरीज की महिला तीमारदार की जांच रिपोर्ट में सोमवार देर रात कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है.

अधिकारी ने बताया कि संक्रमित पाई गई महिला का मरीज 15 से 26 अप्रैल तक एम्स के यूरोलॉजी वार्ड में भर्ती रहा और इस बीच वह किसी कोरोना वायरस संक्रमित के संपर्क में आई होगी. 27 अप्रैल को इस वार्ड में भर्ती एक महिला रोगी के तीमारदार में कोरोना के लक्षण पाए जाने के बाद इस वार्ड से मरीजों को पृथक वार्ड में स्थानांतरित कर दिया गया था. कोरोना के लक्षण दिखने पर दो मई को जांच के लिए महिला का नमूना लिया गया जिसकी रिपोर्ट में उसके कोरोना वायरस संक्रमित होने की पुष्टि हुई. महिला को एम्स के पृथक वार्ड में भर्ती कर दिया गया है और उसके संपर्क में आए लोगों की सूची बनायी जा रही है.

रविवार को कोविड-19 से संक्रमित एक नर्सिंग अधिकारी मिली थी
बता दें कि ऋषिकेश एम्स में रविवार को कोविड-19 से संक्रमित एक नर्सिंग अधिकारी मिली थी. तब ऋषिकेश में तैनात प्रशिक्षु आईएएस और अतिरिक्त उपजिलाधिकारी अपूर्वा पांडे ने बताया था कि संक्रमण से बचाव, रोकथाम और निगरानी के लिए वीरभद्र मार्ग स्थित आवास विकास क्षेत्र की उस गली को सील कर दिया गया है, जहां नर्सिंग अधिकारी किराए पर रह रही थीं. उनमें 30 अप्रैल को कोरोना वायरस के लक्षण उभरे थे. अभी तक घर में वह क्वारंटाइन की गई थीं. नर्सिंग अधिकारी में संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उन्हें एम्स के क्वारंटाइन सेंटर में भेजा गया है. वह पिछले 28 दिन में ऋषिकेश से बाहर नहीं गईं. उनकी मेडिसिन आईसीयू में 15 अप्रैल से ड्यूटी थी.
(इनपुट- भाषा)



ये भी पढ़ें- 

Lockdown में बोकारो ने मारी बाजी,मजदूरों को काम देने में प्रदेश में आया फर्स्ट

केरल से धनबाद पहुंचे 1175 मजदूरों का मलाल, बोले- 860 रुपये में कटाना पड़ा टिकट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज