COVID-19: उत्तराखंड में News 18 का रियलिटी चेक, 9 जिलों के DM ने दिया क्विक रिस्पांस
Dehradun News in Hindi

COVID-19: उत्तराखंड में News 18 का रियलिटी चेक, 9 जिलों के DM ने दिया क्विक रिस्पांस
News 18 का रियलिटी चेक

एक के बाद एक शिकायतें मिलने से हो रही फजीहत के बाद उत्तराखंड सरकार ने ऐसे अफसरों को किनारे करना मुनासिब समझा

  • Share this:
देहरादून. देश में कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमण की शुरूआत के समय उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कई अधिकारियों को कंट्रोल रूम से लेकर प्रवासियों तक समन्यव बनाने की जिम्मेदारी सौंपी. लेकिन जिम्मेदारी मिलने के बाद कुछ अफसर अपना फोन स्विच ऑफ कर बैठ गए और कुछ ने कॉल रिसीव करना मुनासिब नहीं समझा. इसका नतीजा हुआ कि संकट के ऐसे समय में सरकार की काफी आलोचना हुई. एक के बाद एक शिकायतें मिलने से हो रही फजीहत के बाद उत्तराखंड सरकार ने ऐसे अफसरों को किनारे करना मुनासिब समझा.

रियलिटी चेक में ये रहे अव्वल
हाल ही में सरकार ने नोडल अफसर बदलने के साथ ही स्वास्थ्य सचिव भी बदल दिया और कुछ जिलाधकारियों को भी इधर से उधर किया. अफसरशाही में हुए इस बदलाव का अब असर दिखाई देने लगा है. न्यूज़ 18 ने बुधवार को एक रियलटी चेक किया. इसके तहत प्रदेश के सभी 13 जिलों के जिलाधिकारी (डीएम) को फोन किया गया. इस रियलटी चेक में तेरह में से नौ डीएम का शानदार प्रदर्शन रहा. शानदार इसलिए कि डीएम के सरकारी नंबर पर जब फोन किए गए तो बागेश्वर, अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ और डीएम चमोली को छोड़ शेष नौ जिलों के डीएम ने क्विक रिस्पांस दिया. डीएम उत्तरकाशी आशीष चौहान, डीएम ऊधमसिंह नगर नीरज खैरवाल, डीएम देहरादून आशीष श्रीवास्तव, डीएम रूद्रप्रयाग वंदना सिंह, डीएम पौड़ी धीरज सिंह गबरयाल ने पहली ही कॉल में फोन पिक किया और समस्या का समाधान भी किया. जबकि डीएम नैनीताल सचिन बंसल और डीएम टिहरी मंगेश घिल्डियाल फोन पिक करने से चूक गए लेकिन कैंप ऑफिस से कॉल बैक किया गया और पूछा गया कि आपका फोन आया था, डीएम साब मीटिंग में हैं. कोई मैसेज देना है तो आप बता दीजिए.

हरिद्वार डीएम सी. रविशंकर ने भले ही फोन पिक नहीं किया, लेकिन करीब छह घंटे बाद उनके ऑफिस से कॉल बैक किया गया. वहीं डीएम चमोली स्वाति भदौरिया ने करीब नौ घंटे 20 मिनट बाद रात आठ बजकर 49 मिनट पर कॉल बैक किया लेकिन तब तक न्यूज़ 18 इस रियल्टी चेक को टीवी स्क्रीन पर दिखा चुका था. इस बात की बहुत संभावना है कि रियलिटी चेक टीवी पर दिखाए जाने के बाद उन्होंने अपना सरकारी फोन चेक किया होगा और कॉल बैक किया होगा.



फिसड्डी मिले ये जिलाधिकारी


जबकि रियलिटी चेक में डीएम अल्मोड़ा, डीएम बागेश्वर के फोन स्विच ऑफ मिले, तो डीएम पिथौरागढ़ और डीएम चंपावत का फोन कॉल भी फॉरवर्ड शो हो रही थी. सवाल उठता है कोरोना संकट और जल्द शुरू होने वाले मानसून काल के मद्देनजर भी अगर कोई अफसर अपना फोन स्विच ऑफ रखता है तो इसे क्या समझा जाये. जबकि प्रदेश में प्रवासियों की घर वापसी के बाद से कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के मामले लगातार बढ़ रहे हैं तो लोगों के सामने भोजन और अन्य जरूरी आवश्यकताओं को पूरा किए जाने का भी संकट है.

ये भी पढ़ें- UP में बुजुर्गों में COVID-19 की रफ्तार पर लगा ब्रेक, संक्रमण का प्रतिशत 5.99 पर आया


उत्तराखंड के किसान ने लगाया ऐसा धनिया कि अब Guinness Book of World Records में आया नाम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading