होम /न्यूज /उत्तराखंड /चारों धामों के कपाट बंद होने की तारीखों का ऐलान, जानिए कब तक होंगे दर्शन

चारों धामों के कपाट बंद होने की तारीखों का ऐलान, जानिए कब तक होंगे दर्शन

दशहरे के दिन चारों धामों के कपाट बंद होने की तारीखों का किया गया ऐलान.

दशहरे के दिन चारों धामों के कपाट बंद होने की तारीखों का किया गया ऐलान.

Char Dham Yatra: कपाट खुलने के बाद से अब तक लाखों श्रद्धालु चार धाम की यात्रा कर चुके हैं. कपाट खुलने से अभी तक 1453549 ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

दशहरे के दिन चारों धामों के कपाट बंद करने की तारीखों का ऐलान
इस साल लाखों श्रद्धालुओं ने की चार धाम यात्रा

देहरादून. उत्तराखंड में चारधाम यात्रा अब अपने अंतिम पड़ाव पर है. सभी धामों के कपाट बंद होने की तिथि भी कल यानी कि दशहरे के दिन तय हो गयी. 26 अक्टूबर को श्री गंगोत्री धाम के कपाट 12 बजकर 1 मिनट पर शीतकाल हेतु बंद हो जायेंगे. 27 अक्टूबर प्रात: साढे़ आठ बजे (8:30 AM) श्री केदारनाथ धाम के कपाट बंद होंगे. श्री यमुनोत्री धाम के कपाट 27 अक्टूबर को अभिजीत मुहूर्त में दोपहर को बंद हो जायेंगे. 19 नवंबर को अपराह्न 3 बजकर 35 मिनट (3:35 PM) पर श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होंगे. हेमकुंड साहिब तथा लोकपाल तीर्थ के कपाट शीतकाल हेतु 10 अक्टूबर, सोमवार को बंद हो रहे हैं.

एक तरफ चार धाम के कपाट बंद होने की तिथि घोषित हो गयी है तो वहीं दूसरी तरफ केदारनाथ के साथ अन्य केदारों के भी कपाट बंद होने की तिथि भी घोषित हो गयी है. द्वितीय केदार मद्महेश्वर के कपाट शुक्रवार 18 नवंबर को बंद होंगे. 21 नवंबर को उखीमठ में मद्महेश्वर मेला आयोजित किया जाएगा. तृतीय केदार तुंगनाथ के कपाट 7 नवंबर को बंद होंगे. बद्रीनाथ धाम के कपाट, इस यात्रा वर्ष शनिवार 19 नवंबर को शाम 3 बजकर 35 मिनट (3:35 PM) पर बंद होंगे. जबकि श्री केदारनाथ धाम के कपाट 27 अक्टूबर प्रात: 8.30 बजे भैया दूज के अवसर पर बंद होंगे.

विधिवत पूजा-पाठ के बाद बंद होंगे कपाट
श्री गंगोत्री धाम के कपाट 26 अक्टूबर, गोवर्धन पूजा के दिन अन्नकूट गोवर्धन पूजा के बाद 12 बजकर एक मिनट पर बंद होंगे. उसी दिन मां गंगा की डोली गंगोत्री से देवी मंदिर मुखीमठ ( मुखवा) हेतु प्रस्थान करेगी. यमुनोत्री धाम के कपाट भैया दूज 27 अक्टूबर को अभिजीत मुहूर्त में दोपहर बाद शीतकाल हेतु बंद हो जायेंगे. मां यमुना की उत्सव डोली इसी दिन शीतकालीन गद्दीस्थल खुशीमठ (खरसाली) के लिए प्रस्थान करेगी. विश्व प्रसिद्ध श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि विजय दशमी के अवसर पर विधि-विधान से पंचाग गणना के पश्चात तय हुई. इससे पूर्व मंदिर परिसर मैं नवरात्रि के दौरान नौ दिन तक मां उर्वशी पूजा संपन्न हुई. जिसका कल विजया दशमी में समापन हुआ. भगवान केदारनाथ धाम के कपाट इस वर्ष 27 अक्टूबर, प्रात: साढ़े आठ बजे शीतकाल हेतु बंद हो जायेंगे. भगवान केदारनाथ जी की पंचमुखी डोली 27 अक्टूबर को फाटा, 28 अक्टूबर को विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी तथा 29 अक्टूबर को श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ पहुंचेगी. इसी के साथ पंचकेदार गद्दी स्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में भगवान केदारनाथ जी की शीतकालीन पूजाएं शुरू हो जायेंगी.

लाखों श्रद्धालुओं ने किए दर्शन
आपको बता दें कि कपाट खुलने के बाद से अब तक लाखों श्रद्धालु चार धाम की यात्रा कर चुके हैं. कपाट खुलने से अभी तक 1453549 तीर्थयात्री श्री बद्रीनाथ धाम, 1339477 तीर्थयात्री केदारनाथ, 458701 तीर्थयात्री यमुनोत्री तथा 483096 तीर्थयात्री गंगोत्री धाम पहुंचे है. अभी तक उत्तराखंड चारधाम पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों की कुल संख्या 3834823( अड़तीस लाख चौतीस हजार आठ सौ तेईस) हो गयी है. गुरुद्वारा हेमकुंड साहिब से प्राप्त जानकारी के अनुसार सवा दो लाख यात्री हेमकुंड साहिब के दर्शन कर चुके है.

Tags: Badrinath, Badrinath Dham, Char Dham, Char Dham Yatra, Dehradun news, Gangotri Dham, Gangotri-Yamunotri Dham, Kedarnath Dham, Uttarakhand news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें