लाइव टीवी
Elec-widget

देहरादून मेयर ने पार्षद के विरोध के बाद भी अवैध कब्ज़ाधारियों को बिजली देने के दिए आदेश

Rajesh Dobriyal | News18 Uttarakhand
Updated: November 22, 2019, 6:58 PM IST
देहरादून मेयर ने पार्षद के विरोध के बाद भी अवैध कब्ज़ाधारियों को बिजली देने के दिए आदेश
नरेश रावत का कहना है कि इस अतिक्रमण के ख़िलाफ़ नगर-निगम, ज़िलाधिकारी कार्यालय में शिकायत करने का कोई फ़ायदा नहीं हुआ क्योंकि दोनों जगह से मना कर दिया कि यह ज़मीन उनके क्षेत्राधिकार में नहीं आती.

मसूरी बाइपास (Mussoorie by-pass) पर बेशकीमती विवादित ज़मीन पर नगर निगम के मेयर (dehradun municipal corporation mayor) पर ही अतिक्रमण (Encroachment) करवाने का आरोप लगा है.

  • Share this:
देहरादून. पिछले 19 साल से उत्तराखंड (Uttarakhand) की अस्थाई राजधानी बना देहरादून (Dehradun) शहर अव्यवस्थाओं और मनमानियों का उदाहरण बनता जा रहा है. स्थिति यह हो गई है कि मसूरी बाइपास (Mussoorie by-pass) पर बेशकीमती विवादित ज़मीन पर नगर निगम के मेयर (dehradun municipal corporation mayor) पर ही अतिक्रमण (Encroachment) करवाने का आरोप लगा है. आरोप तो यहां तक है कि इसका विरोध करने वाले स्थानीय पार्षद (municipal councilor) के साथ मेयर ने अपमानजनक बर्ताव किया और नगर निगम कार्यालय से भगा दिया.

खुलेआम अवैध कब्ज़े की कोशिश

देहरादून में मसूरी बाइपास पर सूचना भवन, किसान भवन, राज्य निर्वाचन आयोग जैसे कई सरकारी दफ़्तर बने हैं. इन्हीं के पीछे एक अवैध बस्ती भी है जो सालों में विस्तार पाकर बनी है. यहीं खाली पड़ी रानी पद्मावती की ज़मीन पर पिछले कुछ सालों में भू-माफ़िया कई बार कब्ज़ा करने की कोशिश कर चुका है.
डेढ़ साल पहले भी वहां ज़मीन पर रातोंरात एक ढांचा खड़ा किया गया था जिसे काफ़ी बवाल के बाद पुलिस ने खाली करवाया था. पिछले कुछ दिन से इस विवादित ज़मीन पर फिर कब्ज़े की कोशिश हो रही है.

पार्षद की शिकायत तक नहीं सुन रहे अधिकारी!

अब यह क्षेत्र नगर निगम की परिधि में आ चुका है और निर्दलीय चुनाव लड़े नरेश रावत यहां के पार्षद हैं. नरेश रावत का कहना है कि इस अतिक्रमण के ख़िलाफ़ नगर-निगम, ज़िलाधिकारी कार्यालय में शिकायत करने का कोई फ़ायदा नहीं हुआ क्योंकि दोनों जगह से मना कर दिया कि यह ज़मीन उनके क्षेत्राधिकार में नहीं आती. देहरादून के वार्ड 65 के पार्षद ने कहा कि कब्ज़ा करने वाले सभी लोग बाहर के हैं और पहले भी कब्ज़ा कर बस्ती में मकान बना चुके हैं. उन्होंने 16 नवंबर को एसडीएम सदर को क्षेत्र में कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका को लेकर शिकायत भी की थी. गुरुवार को एसडीएम गोपाल राम ने न्यूज़ 18 को बताया कि उन्हें ऐसी कोई शिकायत मिली ही नहीं. इसके बाद उन्होंने इस शिकायत पर एक-दो दिन में कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया था.

अतिक्रमणकारियों के साथ मेयर!
Loading...

स्थानीय निवासियों के अनुसार अब इन लोगों को बिजली के कनेक्शन भी मिल गए हैं जिसका लोगों ने विरोध किया है. बिजली विभाग के अनुसार (अवैध) कब्ज़ाधारियों को बिजली-पानी कनेक्शन के लिए स्थानीय पार्षद, ग्राम प्रधान की अनुमति एक एफ़िडेविट के साथ देनी होती है.
इस केस में स्थानीय पार्षद ने कनेक्शन के लिए अनुमति नहीं दी है बल्कि विरोध किया है तो फिर बिजली विभाग ने इन्हें कनेक्शन कैसे दिए? दरअसल कब्ज़ा करने वाले लोगों को देहरादून के मेयर सुनील उनियाल गामा ने कनेक्शन दिए जाने की सिफ़ारिश कर दी है. इसके बाद बिजली विभाग पार्षद पर विरोध न करने का दबाव बना रहा है.

पार्षद को भगाया

पार्षद नरेश रावत ने कहा कि शुक्रवार को वह मेयर से मिलने पहुंचे ताकि आग्रह कर सकें कि चुने हुए प्रतिनिधि के रूप में उनके अधिकार क्षेत्र में दखल न दिया जाए और अतिक्रमणकारियों को कब्ज़ा न दिलवाया जाए. नरेश रावत के अनुसार मेयर सुनील उनियाल गामा ने उनसे इस बारे में बात करने से इनकार कर दिया और बेहद अपमानजनक भाषा का प्रयोग करते हुए उन्हें अपने ऑफ़िस से निकाल दिया. मेयर सुनील उनियाल गामा ने इस संबंध में पूछे जाने पर न्यूज़ 18 के सवालों का जवाब नहीं दिया है. जब भी वह जवाब देंगे हम उसे प्रकाशित करेंगे.

आंदोलन का ऐलान

पार्षद ने इसे पूरे क्षेत्र और लोकतंत्र का अपमान बताते हुए अतिक्रमण और मेयर के ख़िलाफ़ आंदोलन का ऐलान किया है. हालांकि यह सवाल तो उठता ही है कि एक निर्दलीय पार्षद बीजेपी की ट्रिपल इंजन सरकार के ख़िलाफ़ क्या कर लेगा? ऐसे में इस तथ्य का ध्यान रखना ज़रूरी हो जाता है कि स्थानीय निकाय और पंचायत चुनावों दोनों में ही निर्दलीयों का बोलबाला रहा है. हालांकि कमी यह रही कि ये निर्दलीय अलग-अलग ही रहे हैं और बीजेपी-कांग्रेस के लिए कोई चुनौती नहीं बन सके हैं.

यह भी पढ़ें: OPINION: कौन हैं उत्तराखंड के बाबा सनकीदास, जो बड़ी कारीगरी से करवा रहे हैं सरकारी ज़मीनों पर कब्ज़े

सीएम ने किया 6 नंबर पुलिया पर वेंडिंग ज़ोन का उद्घाटन, स्थानीय निवासी बोले- इससे जाम, दुर्घटनाएं बढ़ीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 6:58 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...