लाइव टीवी

सत्यापन अभियान में दून पुलिस ने ठोका सवा करोड़ का जुर्माना... अपराधियों के दून में पनाह लेने पर हाथ झाड़े
Dehradun News in Hindi

satendra bartwal | News18 Uttarakhand
Updated: December 17, 2019, 3:32 PM IST
सत्यापन अभियान में दून पुलिस ने ठोका सवा करोड़ का जुर्माना... अपराधियों के दून में पनाह लेने पर हाथ झाड़े
देहरादून के एसएसपी कहते हैं कि अपराधियों की जड़ें जमने में मकान मालिकों की लापरवाही ज़िम्मेदार है और ऐसे मकान मालिकों पर पुलिस ऐक्ट के तहत कार्रवाई की गई है.

ऐसे दर्जनों मामले हैं जिसका खुलासा होने के बाद पता चला कि इन शातिर बदमाशों ने देहरादून में पनाह ले रखी थी.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) की अस्थाई राजधानी देहरादून (Temporary Capital Dehradun) की पुलिस ने किराएदारों का सत्यापन न कराने वाले किराएदारों (Tenants) पर साल भर में करीब सवा करोड़ रुपये का जुर्माना (fine) लगाया है. पुलिस अधिकारी खुद भी यह मानते हैं कि देहरादून जैसे शहर में मकान मालिकों (House woner) में जागरुकता की कमी है और इसलिए वह किराएदारों का सत्यापन नहीं कराते. यह भी एक सच है कि अगर पुलिस जागरुकता अभियान चलाती और खुद भी जागरुक रहती तो अब्दुल शकूर हत्याकांड (abdul shakoor murder case) जैसे मामले टल जाते.

...तो नहीं होता अब्दुल शकूर हत्याकांड 

देहरादून पुलिस ने ज़िले में सत्यापन अभियान चलाकर साल भर में करीब एक करोड़ 20 लाख रुपये का जुर्माना वसूला है. सवाल उठता है कि अगर पुलिस की तरफ नियमित रूप से सत्यापन किया गया है तो फिर देहरादून की अलग-अलग जगहों पर अपराधी कैसे अपने ठिकाने बना रहे हैं?

करोड़ों रुपये की क्रिप्टो करेंसी के चक्कर में मारे गए अब्दुल शकूर को उसके साथियों ने उस किराए के मकान में ही टॉर्चर किया था जो उन्होंने देहरादून में ले रखा था. इसके अलावा यूपी, हरियाणा से फ़रार शातिर कौशल भी देहरादून में किराए पर रह रहा था. कौशल पर बलवा, गैंगस्टर जैसे 29 मुकदमे दर्ज थे.



खाकी पर सवाल तो हैं 

ये तो बड़े और ताज़ा उदाहरण हैं. ऐसे दर्जनों मामले हैं जिसका खुलासा होने के बाद पता चला कि इन शातिर बदमाशों ने देहरादून में पनाह ले रखी थी. देहरादून के एसएसपी इस सबका ज़िम्मा मकान-मालिकों पर फोड़ देते हैं. वह कहते हैं कि अपराधियों की जड़ें जमने में मकान मालिकों की लापरवाही ज़िम्मेदार है और ऐसे मकान मालिकों पर पुलिस ऐक्ट के तहत कार्रवाई की गई है.

भले ही सत्यापन अभियान की आड़ में खाकी अपनी खामियों का ठीकरा मकान मालिक पर थोप कर अपनी पीठ थपथपा रही हो लेकिन इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि ज़रुर खाकी की पकड़ ढीली है. लेकिन प्रदेश ले बाहर के बदमाशों का दून घाटी को पनाह का ठिकाना बनाना पुलिस के ख़ुफ़िया तंत्र और इस ‘लगातार चलने वाले’ सत्यापन अभियान पर भी सवाल खड़ा करता है.

ये भी देखें: 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 17, 2019, 3:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,117,299

     
  • कुल केस

    1,554,960

    +37,000
  • ठीक हुए

    345,833

     
  • मृत्यु

    91,828

    +3,373
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर