लाइव टीवी

कोरोना पर रार... क़ाज़ी की भावुक अपील को बीजेपी ने बताया नौटंकी, कांग्रेस ने कहा- राजनीति का समय नहीं
Dehradun News in Hindi

Rajesh Dobriyal | News18 Uttarakhand
Updated: March 27, 2020, 7:45 PM IST
कोरोना पर रार... क़ाज़ी की भावुक अपील को बीजेपी ने बताया नौटंकी, कांग्रेस ने कहा- राजनीति का समय नहीं
बीजेपी मीडिया प्रभारी अजेंद्र अजय ने क़ाज़ी के बयान को नौटंकी करार दिया तो कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा, भावनाएं समझने की ज़रूरत.

मंगलौर विधायक क़ाज़ी निज़ामुद्दीन ने मुख्यमंत्री के नाम एक वीडियो संदेश दिया, जिसमें वह लगभग रोने वाले थे.

  • Share this:
कोरोना वायरस को लेकर किए गए लॉकडाउन के दौरान सैकड़ों किलोमीटर की पैदल यात्रा कर परिवार के साथ घरों को लौटते दिहाड़ी मज़दूरों के मजबूरी और तकलीफ़ की कहानियां देश भर से आ रही हैं लेकिन उत्तराखंड में इस त्रासदी ने भी राजनीतिक रंग ले लिया है. मंगलौर के कांग्रेस विधायक ने मुख्यमंत्री से एक भावुक वीडियो अपील की जिसमें उन्होंने मज़दूरों के भूखे मरने की नौबत आने और सीएम से इन्हें तुरंत एक महीने का राशन उपलब्ध करवाने को कहा. बीजेपी ने इसे नौटंकी करार दिया है तो कांग्रेस का कहना है कि इस मामले पर राजनीति करने के बजाय उनकी भावनाएं समझनी चाहिएं.

क़ाज़ी का बयान 

बता दें कि मंगलौर के विधायक क़ाज़ी निज़ामुद्दीन ने गुरुवार को मुख्यमंत्री के नाम एक वीडियो संदेश दिया. अपने फ़ेसबुक अकाउंट पर उन्होंने यह वीडियो शेयर किया जो शाम तक वायरल हो गया. वायरल होने की वजह यह भी थी कि इसमें मज़दूरों के भूखे मरने की नौबत आने की बात क़ाज़ी निज़ामुद्दीन भरे गले से कर रहे थे और ऐसा लग रहा था कि वह बस रोने वाले हैं.



मज़दूरों की दुर्दशा की बात करते हुए कांग्रेसी विधायक ने मुख्यमंत्री को चेतावनी भी दी थी कि अगर वह एक दिन में मज़दूरों को राशन उपलब्ध नहीं करवाते हैं तो वह उनके आवास के सामने धरने पर बैठ जाएंगे और खुद भी अन्न-जल त्याग देंगे.



आपने क्या किया?

इस पर बीजेपी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. बीजेपी मीडिया सेल के प्रमुख अजेंद्र अजय कहते हैं कि पहले तो विधायक जी को यह बताना चाहिए कि उन्होंने कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में व्यक्तिगत स्तर पर क्या किया है? वह संसाधन संपन्न हैं और सक्षम हैं.

जहां तक सरकार का सवाल है केंद्र और राज्य सरकार हर वर्ग को राहत पहुंचाने के लिए लगातार कोशिशें कर रही है. गुरुवार को ही केंद्र सरकार ने गरीब वर्गों को राहत देने के लाखों करोड़ रुपये के पैकेज देने का ऐलान किया है. राशन बढ़ाया गया है, गैस सिलेंडर मुफ़्त दिया जा रहा है, किसानों और जन-धन खाताधारकों के खातों में सीधे पैसा डाला जा रहा है. राज्य सरकार भी अपने स्तर से भरपूर कोशिश कर रही है कि राज्य में किसी को भूखा न रहना पड़े.

अजेंद्र कहते हैं कि बीजेपी के सभी सांसदों ने कोरोना से लड़ने के लिए अपने-अपने संसदीय क्षेत्रों में राशि दी है, नैनीताल- ऊधम सिंह नगर के सांसद अजय भट्ट ने तो अपनी पूरी सांसद निधि ही इस काम के लिए दे दी है. अजेंद्र अजय कहते हैं कि यह समय कोरोना से लड़ने के लिए सरकार का सहयोग करने का है न कि इस तरह की नौटंकी करने का. कांग्रेस के विधायक महोदय अपने गिरेबां में झांककर देखें कि उन्होंने अपने क्षेत्र के लिए क्या किया है?

दलगत राजनीति का समय नहीं 

कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना क़ाज़ी निज़ामुद्दीन का बचाव करते हुए कहते हैं कि कोरोना से लड़ने के लिए सबसे पहले विधायक निधि से राशि क़ाज़ी निज़ामुद्दीन ने ही जारी की थी. वह क्षेत्र के जाने-माने परिवार से हैं और लोगों के दुख-दर्द को समझते हैं. सरकार को उनकी बात को गंभीरता से लेना चाहिए क्योंकि वह अपने क्षेत्र के लोगों की बात कह रहे हैं.

धस्माना यह भी कहते हैं कि अजेंद्र अजय या देवेंद्र भसीन को इस समय ऐसी हल्की बातें नहीं करनी चाहिएं. यह समय दलगत राजनीति से ऊपर उठकर काम करने का है. कोरोना वायरस बीजेपी, कांग्रेस देखकर नहीं आएगा, न ही धर्म, जाति के आधार पर भेदभाव करेगा.

वह कहते हैं कि राष्ट्रीय स्तर पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में मोदी सरकार का साथ देने का ऐलान किया तो उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने भी मुख्यमंत्री से मिलकर समर्थन देने का ऐलान किया. यह समय बीजेपी-कांग्रेस की बात करने का नहीं है, मानवता पर खतरा है और इससे सबको मिलकर लड़ना होगा.

ये भी देखें: 

कांग्रेस MLA ने कहा भूखे मर रहे हैं मज़दूर, मुफ़्त राशन दे सरकार 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 27, 2020, 7:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading