कोरोना संक्रमित रहे मृतक के दाह-संस्कार पर बवाल... गुस्साए लोगों ने जड़ा शमशान घाट के गेट पर ताला
Dehradun News in Hindi

कोरोना संक्रमित रहे मृतक के दाह-संस्कार पर बवाल... गुस्साए लोगों ने जड़ा शमशान घाट के गेट पर ताला
सुबह प्रशासन की ओर से कोरोना संक्रमित व्यक्ति का शव का दाह-संस्कार के लिए नालापानी श्मसान घाट लाने की सूचना मिलते ही स्थानीय लोग जमकर विरोध करने लगे.

रविवार को भी कोविड-19 संक्रमण के बाद मारे गए व्यक्ति के दाह-संस्कार को लेकर हंगामा हुआ था.

  • Share this:
देहरादून. दो दिन के अंदर ही एक बार फिर कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति के दाह-संस्कार को लेकर देहरादून में बवाल हो गया. रविवार को भी कोविड-19 संक्रमण के बाद मारे गए व्यक्ति के दाह-संस्कार को लेकर हंगामा हुआ था. दून के नालापानी शमशान घाट में इस बवाल की वजह से एक दूसरे व्यक्ति का दाह-संस्कार भी अटक गया. आखिर पुलिस-प्रशासन को मामले में दखल देना पड़ा और काफ़ी देर तक समझाने-बुझाने के बाद अंतिम संस्कार हो सके लेकिन इस शर्त पर कि अबसे नालापानी में कोविड-19 संक्रमण से मारे गए किसी व्यक्ति का दाह-संस्कार नहीं होगा.

गेट पर ताला 

आज सुबह प्रशासन की ओर से कोरोना संक्रमित व्यक्ति का शव का दाह-संस्कार के लिए नालापानी श्मसान घाट लाने की सूचना मिलते ही स्थानीय लोग जमकर विरोध करने लगे. भीड़ ने शमसान घाट के गेट पर ताला लगा दिया और कोविड-19 संक्रमित शव को किसी और जगह ले जाने की की बात कही. इसकी वजह से अपने परिजन के दाह संस्कार के लिए पहुंचा एक और परिवार भी फंस गया.



मामला ज्यादा बिगड़ते देख प्रशासन ने थाना रायपुर पुलिस को बुलाया जिसके बाद पुलिस ने मोर्चा संभाला. स्थिति इतनी ख़राब हो गई कि पुलिस को शमसान घाट के गेट पर लगा ताला तोड़ना पड़ा. मौके पर पहुंची सीओ रायपुर पल्लवी त्यागी और पुलिस की टीम को लोगों को समझाने में कड़ी मशक्कत करनी पड़ी.
आगे से नहीं लाएंगे संक्रमित लोगों के शव 

इसके बाद मौके पर पहुंचे एसडीएम गोपाल राम बिनवाल ने कहा कि स्थानीय जनता को अस्वाशन दिया गया है और अब कोविड-19 संक्रमित रहे मृतकों के लिए दाह-संस्कार के लिए अलग ज़मीन की तलाश की जा रही है. उन्होंने कहा कि आगे से कोरोना संक्रमित रहे मृतक के दाह संस्कार के लिए कोई और जगह ढूंढी जाएगी.

इसके बाद ही दोनों शवों का दाह-संस्कार किया जा सका.

dehradun, bawal in creamation for covid-19 dead 2, मामला ज्यादा बिगड़ते देख प्रशासन ने थाना रायपुर पुलिस को बुलाया जिसके बाद पुलिस ने मोर्चा संभाला.
मामला ज्यादा बिगड़ते देख प्रशासन ने थाना रायपुर पुलिस को बुलाया जिसके बाद पुलिस ने मोर्चा संभाला.


इसलिए था विरोध

मौके पर विरोध कर रहे लोगों का कहना था कि श्मसान घाट के चारों तरफ बस्तियां हैं और कोरोना से संक्रमित व्यक्ति के शव की वजह से इलाके में भय का माहौल है कि ये बीमारी इलाके में फैल सकती है. लोगों ने यह भी आरोप लगाया कि कोविड 19 पेशेंट को इलाक़े में लाए जाने के बाद प्रशासन पूरा इलाका सेनेटाइज भी नहीं कर रहा.

मौके पर पहुंचे पार्षद संजीव मल्होत्रा का कहना था कि गाइडलाइन्स के हिसाब से नज़दीकी शमसान घाट में अंतिम संस्कार होना होता है. इस लिहाज से दून अस्पताल के निकट लक्खीबाग शमसान घाट में बॉडी का अंतिम संस्कार होना था. प्रशासन क्यों नालापानी शमसान घाट का उपयोग कोविड-19 पॉज़िटिव रहे मृतक के दाह संस्कार के लिए चुन रहा है?

रविवार का बवाल

नालापानी शमशान घाट में दो दिन पहले यानी रविवा को भी यही कहानी दुहराई गई थी. रविवार को नालापानी में स्थित श्मसान घाट में भी कोरोना संक्रमित रहे मृतक को अंतिम संस्कार के लिए लाया गया तो स्थानीय लोगों ने विरोध किया था.

रविवार को पार्षद देविका समेत पहुंचे लोगों ने कहा था कि शमसान घाट बस्ती के बीचों-बीच है. कोरोना संक्रमित रहे मृतकों का अंतिम संस्कार इसी इलाके में किया जाता रहा तो संक्रमण फैलने का खतरा बना रहेगा. रविवार को भी पुलिस को मौके पर आना पड़ा था और उसके बादही शव का अंतिम संस्कार किया जा सका था.

ये भी देखें: 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading