Home /News /uttarakhand /

दून हॉस्पिटल बना दून मेडिकल कॉलेज

दून हॉस्पिटल बना दून मेडिकल कॉलेज

अस्पताल में खड़े मरीज

अस्पताल में खड़े मरीज

पूरे प्रदेश से बेहतर इलाज की आस में राजधानी देहरादून आने वाले मरीजों को निराशा हाथ लग रही है.

पूरे प्रदेश से बेहतर इलाज की आस में राजधानी देहरादून आने वाले मरीजों को निराशा हाथ लग रही है.

दून हॉस्पिटल अब मेडिकल कॉलेज बन चुका है. मरीजों को जिला हॉस्पिटल की सुविधाएं नहीं मिल रही है. जिसकी वजह से मरीज अब हॉस्पिटल आने से कतराने लगे हैं. दून हॉस्पिटल अब दून मेडिकल कॉलेज में तब्दील हो चुका है.

अब राजधानी में कोई जिला हॉस्पिटल नहीं है. जिला हॉस्पिटल में मिलने वाली सुविधाओं से मरीज महरुम हो रहे है. मेडिकल कॉलेज के वार्ड में बेड कम हो गई है. एलपी से मुफ्त में मिलने वाली दवाएं भी अब मरीजों को नहीं मिल रही हैं.

प्रदेश में डॉक्टर्स की कमी को दूर करने के लिए सरकार ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए दून मेडिकल कॉलेज बनाने का फैसला किया. 2016 -17 के शैक्षिक सत्र से लिए 150 छात्रों का इसी साल दाखिला शुरु होगा यानी 150 एमबीबीएस डॉक्टर्स की पढ़ाई शुरु होगी.

फिलहाल लांग टाइम के लिए सरकार का यह कदम मरीजों को लिए राहत भरा हो सकता है, लेकिन अब जिला हॉस्पिटल का दर्जा समाप्त होने से मरीजों के सामने मुश्किले आ रही है.

मेडिकल कॉलेज के आंकडें बताते हैं कि करीब 30 फीसदी मरीजों ने हॉस्पिटल से इलाज कराना ही छोड़ दिया है. फिलहाल अधिकारी बेहतर सेवा देने का दावा कर रहे हैं. दरअसल, दून जिला हॉस्पिटल में इलाज की बेहतर व्यवस्था थी, जिसके चलते प्रदेश के साथ साथ यूपी और हिमाचल प्रदेश के मरीज भी अपना इलाज कराने यहां आते रहे हैं.

सरकार ने मेडिकल कॉलेज बना तो दिया मगर नया जिला हॉस्पिटल घोषित नहीं कर पा रही है, जबकि शहर में दो सरकारी हॉस्पिटल और भी है, जिनको जिला हॉस्पिटल के तौर पर विकसित किया जा सकता है, लेकिन लोग अब मेडिकल कॉलेज को ही जिला हॉस्पिटल बनाने की मांग कर रहे है.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर