उत्तराखंड लैंसडाउन में लगेगा डॉप्लर रडार, रक्षा मंत्रालय ने दी इजाजत

तपोवन टनल में फंसे लोगों को बचाने की कोशिश जारी है. फाइल फोटो.

तपोवन टनल में फंसे लोगों को बचाने की कोशिश जारी है. फाइल फोटो.

Dehradun News: उत्तराखंड (Uttarakhand) के लैंसडाउन में डॉप्लर रडार लगने जा रहा है. रक्षा मंत्रालय ने मौसम विभाग को डॉप्लर राडार लगाने के लिए लैंसडाउन ने जमीन दे दी है.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड (Uttarakhand) के लैंसडाउन में डॉप्लर रडार लगने जा रहा है. रक्षा मंत्रालय ने मौसम विभाग को डॉप्लर राडार लगाने के लिए लैंसडाउन ने जमीन दे दी है. दरअसल रक्षा मंत्रालय ने लैंसडाउन छावनी इलाके में डॉप्लर रडार के लिए यह परमिशन दी है, जो कि काफी लंबे समय से लटकी पड़ी थी. सेना के नियम सुरक्षा मानकों के कारण लंबे समय से प्रोजेक्ट लटका पड़ा था और इसको लेकर कई दौर की बातचीत भी की जा चुकी थी. अब राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी की पहल के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इससे लगाने के लिए जमीन देने की परमिशन दे दी है. राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने रक्षा सचिव सहित रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों से कई दौर की वार्ता की थी,  जिसके बाद यह सफलता मिली है.

लैंसडाउन में डॉप्लर राडार लगने से रुद्रप्रयाग चमोली और पौड़ी के मौसम के पूर्वानुमान में बड़ी मदद मिलेगी. उत्तराखंड में इससे पहले दो डॉप्लर रडार नई टिहरी के सुरकंडा और नैनीताल के मुक्तेश्वर में लगाए जाने का काम किया जा रहा है. यानी कि अब आपदा के क्षेत्र मौसम के पूर्वानुमान को लेकर इन डॉप्लर रडार को लगने से बड़ी मदद प्रदेश को मिलने जा रही है.

लंबे समय से की जा रही मशक्कत

लंबे समय से की जा रही मशक्कत के बाद भी अब तक डॉप्लर रडार नहीं लग पा रहे थे. ताकि आपदा या विषम परिस्थिति में अलर्ट रहा जा सके. प्रदेश में समय समय पर आने वाली आपदाओं की स्थिति में डॉप्लर रडार काफी मददगार साबित होते हैं, जो सटीक मौसम के बारे में पूर्वानुमान 24 घंटे पहले ही बता देते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज