80 हेली सर्विस कंपनियां मिलकर करेंगी मंथन, बेहतर होगी हेलीकॉप्टर सेवा

देहरादून में शनिवार को पहली बार नेशनल हेलीकॉप्टर समिट का आयोजन होने जा रहा है. देश में अपनी तरह की ये पहली समिट है, जिसमें करीब 80 हेली सर्विस कंपनियां शामिल हो रही हैं.

Deepankar Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: September 7, 2019, 12:18 PM IST
80 हेली सर्विस कंपनियां मिलकर करेंगी मंथन, बेहतर होगी हेलीकॉप्टर सेवा
सिविल एविएशन डिपार्टमेंट भारत सरकार, उत्तराखंड सरकार और FICCI मिलकर समिट का आयोजन कर रहे हैं.
Deepankar Bhatt
Deepankar Bhatt | News18 Uttarakhand
Updated: September 7, 2019, 12:18 PM IST
देहरादून. उत्तराखंड में शनिवार को पहली बार नेशनल हेलीकॉप्टर समिट (National Helicopter Summit) का आयोजन होने जा रहा है. देश में अपनी तरह की ये पहली समिट है, जिसमें करीब 80 हेली सर्विस कंपनियां (Heli Service Companies) शामिल हो रही हैं. मकसद है कि कैसे उत्तराखंड में हेली सर्विस सेक्टर (Heli Service Sector) को बेहतर बनाया जाए. उत्तराखंड में आपदा (Disaster) के हालात हों या कहीं मेडिकल सुविधा (Medical Facilities) पहुंचानी हो, हेलीकॉप्टर सर्विस का इस्तेमाल आज भी आसान नहीं है. उड़ान योजना से छोटे शहरों को हेलीकॉप्टर सर्विस से जोड़ने में भी कामयाबी नहीं मिल पाई है.

उत्तराखंड में हेली सर्विस का मार्केट सुधरे, इसके मद्देजर शनिवार को देहरादून में नेशनल हेलीकॉप्टर समिट का आयोजन हो रहा है. सिविल एविएशन डिपार्टमेंट (Civil Aviation Department) भारत
सरकार, उत्तराखंड सरकार और FICCI मिलकर समिट का आयोजन कर रहे हैं. मकसद साफ है कि उत्तराखंड में कैसे हेली सेक्टर में सुधार लाया जाए?

इन दो बिंदुओं पर होगी चर्चा

सिविल एविएशन के सेक्रेटरी दिलीप जावलकर ने कहा कि समिट में मुख्यत: दो बिंदुओं पर चर्चा होगी. एक तो डिजास्टर रिलीफ और मेडिकल रिलीफ के दौरान हेलीकॉप्टर का क्या रोल है. दूसरा उड़ान योजना प्रदेश में सफल नहीं हो पाई है. इसमें हर एक स्टेक होल्डर के क्या प्वाइंट हैं उनपर चर्चा करने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त सरकार और ऑपरेटर के क्या मुद्दे हैं उनपर भी चर्चा होगी.

सिविल एविएशन के सेक्रेटरी दिलीप जावलकर ने कहा कि सरकार और ऑपरेटर के मुद्दों पर भी होगी चर्चा


हेलीकॉप्टर समिट से टूरिज्म में तेजी आएगी
Loading...

उत्तराखंड में सरकार की कोशिश हेलीकॉप्टर को ट्रांसपोर्ट (Transport) का आसान जरिया बनाने की है. सरकार को उम्मीद है कि नेशनल हेलीकॉप्टर समिट से टूरिज्म में तेजी आएगी. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत (Trivendra Singh Rawat) ने कहा कि वह पर्यटन के क्षेत्र में राज्य को आगे बढ़ाना चाहते हैं. ऐसे में उन पर्यटकों को भी ज्यादा से ज्यादा सुविधा देना जरूरी है जो पैसा खर्च कर अपना समय बचाना चाहते हैं. इसके लिए हेलीकॉप्टर ही सबसे बेहतर विकल्प है जो टूरिस्ट को काफी कम समय में ही अपने मंजिल तक पहुंचा सकता है, इसीलिए हेलीकॉप्टर सेवा का विकास और विस्तार किया जाना बेहद अहम् है.

उत्तराखंड में हेलीकॉप्टर सर्विस को बढ़ावा देने वाली उड़ान योजना अबतक उड़ान नहीं भर पाई है. एयर एंबुलेंस (Air Ambulance) सर्विस पर कोई खास काम नहीं हुआ है. ऐसे में नेशनल हेलीकॉप्टर समिट से कंपनियों का कितना भरोसा उत्तराखंड पर बढ़ेगा ये बड़ा सवाल है.

ये भी पढ़ें - युवती ने सैन्यकर्मी पर 4 साल से शादी का झांसा देकर रेप करने का लगाया आरोप...

ये भी पढ़ें - छात्रसंघ चुनाव: एबवीपी और बागी छात्र संगठन के बीच झड़प, पुलिस ने भांजी लाठियां

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 11:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...