दून पुलिस से खुश होकर बुजुर्ग ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा की सहयोग राशि
Dehradun News in Hindi

दून पुलिस से खुश होकर बुजुर्ग ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा की सहयोग राशि
बुजुर्ग की कॉल पर दून पुलिस उन्हें शॉपिंग कराने ले गई

80 साल के बुजुर्ग ने पुलिस कंट्रोल रूम (Police control room) फोन करके बताया कि उन्हें खाद्य सामग्री और बैंक से पैसे निकालने के लिए पुलिस (Police) के सहयोग की आवश्यक्ता है क्योंकि उनके दोनों बेटे देहरादून से बाहर रहते हैं जिस कारण आवश्यक समान के लिए उन्हें खुद घर से बाहर निकलना पड़ेगा.

  • Share this:
देहरादून. कोरोना वायरस (coronavirus) वैश्विक महामारी (Pandemic) की इस आपदा की घड़ी में निराश करने वाली कई खबरों के बीच कुछ ऐसी भी खबरें होती हैं जो मानवता के प्रति उम्मीद की एक लौ जगाने का काम करती हैं. पूरे देश में लाॅकडाउन (Lockdown) को लागू करने और आम लोगों को कुछ सहूलियत मुहैया कराने का दारोमदार काफी हद तक पुलिस (Police) के कन्धों पर आ गया है. उत्तराखंड राज्य में भी लॉकडाउन के चलते आम आदमी हर मदद के लिए पुलिस की ओर देख रहा है ऐसे में उत्तराखंड पुलिस ने देश के सामने एक मिसाल पेश की है. ऐसा एक मामला दून में भी देखने को मिला जहां एक बुजुर्ग ने पुलिस के कार्यों से खुश होकर 21 हजार रुपये प्रधानमंत्री राहत कोष और 21 हजार रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा कराए.

पुलिस अपनी गाड़ी से ले गई खरीदारी के लिए
दरअसल पूरा मामला बसन्त विहार इलाके का है जहां एक 80 साल के बुजुर्ग ने पुलिस कंट्रोल रूम फोन करके बताया कि उन्हें खाद्य सामग्री और बैंक से पैसे निकालने के लिए पुलिस के सहयोग की आवश्यक्ता है क्योंकि उनके दोनों बेटे देहरादून से बाहर रहते हैं जिस कारण आवश्यक समान के लिए उन्हें खुद घर से बाहर निकलना पड़ेगा. बसन्त बिहार के थानाध्यक्ष नत्थीलाल उनियाल ने बताया कि सूचना पर थानाध्यक्ष उनियाल सरकारी गाड़ी लेकर बुजुर्ग आरएस रावत के घर पहुंचे और वहां से उन्हें साथ लेकर पहले बल्लूपुर स्थित एक स्टोर में गए जहां से बुजुर्ग रावत ने घर का कुछ जरूरी सामान खरीदा.

उसके बाद उनके कहने पर थानाध्यक्ष उन्हें लेकर बैंक पहुंचे जहां से रावत ने पैसे निकाले. पैसे निकालने के बाद आरएस रावत ने थानाध्यक्ष से कहा कि मैं आपके काम और समर्पण से बहुत खुश हूं और इस संकट की घड़ी में प्रधानमंत्री राहत फंड ( PM CARE FUND) और मुख्यमंत्री राहत कोष (CM CARE FUND) में 21-21 हजार रुपये सहायता धनराशि देना चाहता हूं और उन्होंने तत्काल दो चेक साइन कर थाने में जमा भी करा दिए. थानाध्यक्ष उनियाल ने बताया कि आरएस रावत Central Building Research Institute (CBRI) रुड़की से रिटायर्ड हैं और वर्तमान में देहरादून के जीएमएस रोड स्थित घर में अपनी पत्नी के साथ रहते हैं.



ये भी पढ़ें- सरकार ने नहीं सुनी पुल की फरियाद, गांव वालों ने लगा ली खुद की ट्रॉली, जान जोखिम में डाल पार करते हैं नदी


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading