लाइव टीवी

चुनाव समितियां बताएंगी उत्तराखंड कांग्रेस का में है किस गुट का वर्चस्व
Dehradun News in Hindi

Robin Singh Chauhan | News18 Uttarakhand
Updated: January 10, 2019, 7:10 PM IST
चुनाव समितियां बताएंगी उत्तराखंड कांग्रेस का में है किस गुट का वर्चस्व
उत्तराखंड कांग्रेस मुख्यालय (फ़ाइल फ़ोटो)

उत्तराखंड कांग्रेस में हरीश रावत और किशोर उपाध्याय के गुट और नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्दयेश और प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह रावत गुट के बीच खाई साफ़ नज़र आती है.

  • Share this:
कांग्रेस में कार्यकारणी को लेकर पहले ही पार्टी के अंदर माहौल गर्म है और अब तीन चुनाव समितियों में अपनों को सेट करने के लिए दिग्गज नेताओँ के बीच खींचतान शुरू हो गई है. आने वाले दिनों मे रार बढ़ने की पूरी संभावनाएं दिखाई दे रही हैं.

लोकसभा चुनावों को लेकर कांग्रेस की चुनाव समन्वय समिति, चुनाव अभियान समिति और चुनाव प्रचार समितियां बननी हैं. इसके लिए पिछले 6 दिन तक दिल्ली में मंथन हुआ. एक बार फिर से प्रदेश अध्यक्ष और प्रभारी के लिए सिरदर्द बना हुआ है.

उत्तराखंड कांग्रेस में 2 साल से कार्यकारिणी का गठन नहीं हुआ है. चुनाव समितियों का गठन गुटबाज़ी को धार दे सकता है. पार्टी सूत्र आशंका जता रहे हैं कि इन समितियों के गठन से नफ़े से ज्यादा नुक़सान लोकसभा चुनावों में झेलना पड़ सकता है.

हालांकि पार्टी नेता यह मानने को तैयार रहीं. कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता दावा कर रहे हैं कि सभी को साथ लेकर ये कमेटियां बनाई जाएंगी.



उत्तराखंड कांग्रेस में हरीश रावत और किशोर उपाध्याय के गुट और नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्दयेश और प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह रावत गुट के बीच खाई साफ़ नज़र आती है. राज्य में विपक्ष के रूप में पार्टी के लचर प्रदर्शन के लिए यह भी बड़ी वजह मानी चाती है. ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि चुनाव समितियां यह भी बताएंगी कि आखिर पार्टी के अंदर वर्चस्व की लड़ाई में कौन उन्नीस है और कौन बीस.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

VIDEO: कांग्रेस की बाइक रैली में उड़ी नियमों की धज्जियां

जश्न में भी साफ़ दिखी कांग्रेस की गुटबाज़ी, हरीश रावत गुट रहा मुख्यधारा से बाहर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 10, 2019, 7:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर