उत्तराखंड बोर्ड का बड़ा ऐलान, 10वीं-12वीं के छात्रों को बचे विषयों में औसत अंक देकर परीक्षाफल होगा घोषित
Dehradun News in Hindi

उत्तराखंड बोर्ड का बड़ा ऐलान, 10वीं-12वीं के छात्रों को बचे विषयों में औसत अंक देकर परीक्षाफल होगा घोषित
उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने आदेश जारी कर दिया है.

उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण 22 से 25 जून के बीच आयोजित शेष बचे विषयों की परीक्षा देने से वंचित रह गये 10वीं और 12वीं के छात्रों को औसत अंक देकर परीक्षाफल घोषित करने का निर्णय लिया है. आदेश में यह भी कहा गया है कि अगर परीक्षार्थी परीक्षा न दे पाने वाले विषयों में प्राप्त औसत अंकों से संतुष्ट नहीं होते तो उन्हें परीक्षा देने का विकल्प भी दिया जाएगा.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) के प्रभाव के कारण 22 से 25 जून के बीच आयोजित शेष बचे विषयों की परीक्षा देने से वंचित रह गये 10वीं और 12वीं के छात्रों (10th and 12th Students) को अन्य विषयों की परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर औसत अंक देकर उनका परीक्षाफल घोषित करने का निर्णय लिया है. इस बाबत प्रदेश के शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम (R. Meenakshi Sundaram) ने उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद को बुधवार को इस संबंध में एक आदेश जारी कर दिया

आपको बता दें कि शिक्षा परिषद ने मार्च में 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं ली थीं, लेकिन लॉकडाउन के कारण कुछ विषयों की परीक्षाएं बीच में ही रह गयी थीं जिन्हें बोर्ड ने पिछले माह जून में संपन्न कराया है.

आदेश में कही ये बात
आदेश में कहा गया है कि कंटेनमेंट जोन में पड़ने वाले परीक्षा केंद्रों या वहां रहने वाले परीक्षार्थियों या परीक्षार्थी के गृह पृथक-वास में रहने जैसे कोरोना वायरस संक्रमण के प्रभाव के कारणों से 22 से 25 जून, 2020 तक आयोजित परीक्षा में शामिल होने से वंचित रह गये हाईस्कूल (10वीं) और इंटरमीडिएट (12 वीं) के छात्रों को छूटे विषयों की परीक्षाओं के स्थान पर औसत अंक देते हुए परीक्षाफल तैयार कर घोषित कर दिया जाएगा. चार या उससे अधिक विषयों की परीक्षा दे चुके छात्रों को सर्वाधिक अंक प्राप्त तीन विषयों (बेस्ट थ्री) और तीन विषयों की परीक्षा दे चुके छात्रों को सर्वाधिक अंक प्राप्त दो विषयों (बेस्ट टू) के औसत अंक छूट गये विषयों की परीक्षाओं में दे दिये जायेंगे और उनका परीक्षाफल घोषित कर दिया जाएगा.
परीक्षा देने का भी मिलेगा विकल्प


हालांकि आदेश में यह भी कहा गया है कि अगर परीक्षार्थी परीक्षा न दे पाने वाले विषयों में प्राप्त औसत अंकों से संतुष्ट नहीं होते तो उन्हें परीक्षा देने का विकल्प भी दिया जाएगा. यह विकल्प चुनने की स्थिति में स्थितियां सामान्य होने पर उनके लिए परीक्षा आयोजित की जाएगी. इसके लिए हालांकि, यह साफ किया गया है कि परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर छात्र का संशोधित परीक्षाफल घोषित किया जाएगा और किसी भी स्थिति में पिछला परीक्षाफल मान्य नहीं होगा चाहे परीक्षा में प्राप्त अंक औसत अंकों से कम ही क्यों न हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading