होम /न्यूज /उत्तराखंड /Dehradun News: पॉलीथीन से मुक्ति की ओर देहरादून का बड़ा कदम, इस जगह बना पहला थैला घर

Dehradun News: पॉलीथीन से मुक्ति की ओर देहरादून का बड़ा कदम, इस जगह बना पहला थैला घर

देहरादून को प्लास्टिक मुक्त करने का अभियान जारी है.

देहरादून को प्लास्टिक मुक्त करने का अभियान जारी है.

देहरादून में राजभवन के नजदीक यह थैला घर स्थापित किया गया है, जिसमें महिलाएं कपड़े के थैले तैयार कर रही हैं. कैंट बोर्ड ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- हिना आज़मी

देहरादून. पॉलिथीन या सिंगल यूज प्लास्टिक हमारे पर्यावरण के साथ-साथ उस में रहने वाले जीव जंतुओं के लिए हानिकारक है. बच्चों की खरीदारी करने के बाद जब आप घर आते हैं, तो वस्तुओं को रखकर यह प्लास्टिक हम जहां-तहां डाल देते हैं, जिससे पॉलिथीन या तो जानवरों द्वारा खाई जाती है या फिर पर्यावरण प्रदूषण का कारक बनती है. इसीलिए सरकार और नगर निगम की तरफ से पॉलिथीन मुक्त देहरादून के कई अभियान समय-समय पर चलाए जाते हैं. देहरादून नगर निगम देहरादून को पॉलिथीन मुक्त बनाने के लिए कोशिश कर रहा है. वहीं देहरादून का कैंट बोर्ड भी इस दिशा में बेहतरीन कदम उठा रहा है.

दरअसल देहदादून कैंट बोर्ड अब स्थानीय निवासियों को सस्ते दामों पर कपड़े का थैला मुहैया कराएगा, जो महिलाएं तैयार कर रही हैं. कैंट बोर्ड की इस पहल से देहरादून न सिर्फ पॉलिथीन मुक्ति की ओर एक कदम बढ़ाएगा बल्कि महिलाएं भी आमदनी करेंगी. कैंट बोर्ड के प्रयास से देहरादून का पहला थैला घर (Thaila Ghar in Dehradun) गढ़ी कैंट में शुरू किया गया है. देहरादून में राजभवन के नजदीक यह थैला घर स्थापित किया गया है, जिसमें महिलाएं कपड़े के थैले तैयार कर रही हैं. मिली जानकारी के अनुसार, कुछ समय बाद प्रेमनगर, गढ़ी कैंट और डाकरा में 2-2 थैला घर बनाए जाएंगे.

कैंट बोर्ड के मुख्य अधिशासी अधिकारी अभिनव सिंह ने बताया कि कैंट को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए लगातार अभियान जारी है. उन्होंने कहा कि अगर हम पॉलिथीन मुक्त समाज की कल्पना कर रहे हैं, तो सबसे पहले समाज में जागरूकता जरूरी है. उन्होंने यह भी जानकारी दी कि कैंट बोर्ड दो व्यवसाय प्रशिक्षण केंद्र संचालित कर रहा है, जिसमें महिलाएं कपड़े और जूट के बैग बनाने का काम कर रही हैं, इसलिए उन्हें मेहनताना देना जरूरी है.

1 जुलाई 2022 से पूरी तरह प्रतिबंधित थी सिंगल यूज प्लास्टिक
बीते वर्ष यानी साल 2022 की 1 जुलाई को नगर निगम द्वारा प्लास्टिक पर पूर्णतया प्रतिबंध लगा दिया गया था. प्लास्टिक यूज करने वाले लोगों पर चालानी कार्रवाई भी की गई, लेकिन बावजूद इसके एक बार फिर बाजारों में धड़ल्ले से पॉलीथीन का उपयोग हो रहा है. देखना यह होगा कि कैंट बोर्ड द्वारा की गई यह पहल कितनी सफल साबित होती है.

Tags: Dehradun news, Single use Plastic, Uttarakhand plastic ban

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें