Home /News /uttarakhand /

राज्‍य के पहले प्राइवेट सेक्‍टर संचालित पावर सब स्‍टेशन निर्माण को मिली मंजूरी

राज्‍य के पहले प्राइवेट सेक्‍टर संचालित पावर सब स्‍टेशन निर्माण को मिली मंजूरी

संदीप सिंघल, एमडी, पावर ट्रांसमिशन कार्पोरेशन उत्तराखंड लिमिटेड

संदीप सिंघल, एमडी, पावर ट्रांसमिशन कार्पोरेशन उत्तराखंड लिमिटेड

खुरपिया विद्युत वितरण उपकेंद्र राज्य का पहला सबस्टेशन होगा जो निजी हाथों से संचालित होगा.

    उत्‍तराखंड में ऊधमसिंह नगर जिले के खुरपिया फार्म में विद्युत वितरण उपकेंद्र निर्माण को पिटकुल (PTCUL) यानी पावर ट्रांसमिशन कार्पोरेशन उत्तराखंड लिमिटेड के बोर्ड से सहमति मिल गई है.  यह राज्‍य का पहला उपकेंद्र होगा, जो प्राइवेट सेक्टर द्वारा संचालित किया जाएगा.

    मालूम हो कि अक्टूबर में राज्य में हुए इन्वेस्टर्स समिट के दौरान सबसे ज्यादा निवेशकों ने ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करने के लिए अपनी सहमति जताई थी. पिटकुल ने भी कई प्रोजेक्ट इन्वेस्टर के सामने रखे थे. इसमें उधमसिंह नगर जिले में स्थित खुरपिया फार्म में 400/220/33 किलो वोल्ट एम्पियर का सबस्टेशन प्रोजेक्ट भी रखा गया था ताकि खुरपिया फार्म इलाके में अच्छी गुणवत्ता वाली बिजली उपलब्ध हो.

    सबस्टेशन बनाने के लिए पिटकुल महकमा जल्द टेंडर प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है. इसके लिए पिटकुल महकमे ने 65वीं बोर्ड बैठक में प्रस्ताव रखा था, जिस पर सहमति मिल गई है. अंतिम मुहर राज्य नियामक आयोग लगाएगा. पिटकुल के एमडी संदीप सिंघल ने कहा कि इस सबस्टेशन को बनाने के लिए निजी क्षेत्रों में निवेश करने वाले निवेशकों को आमंत्रित किया जाएगा. ये विद्युत वितरण उपकेंद्र राज्य का पहला सबस्टेशन होगा जो निजी हाथों से संचालित होगा.

    ये भी पढ़ें - सुर्खियां: एनडी तिवारी सरकार पर हरक का बयान छाया, अनुपूरक बजट को पीछे धकेला

    ये भी पढ़ें - वन तस्कर काटते जा रहे हैं कीमती पेड़ और वन विभाग है बेखबर

    Facebook पर उत्‍तराखंड के अपडेट पाने के लिए कृपया हमारा पेज Uttarakhand लाइक करें.

    Tags: Uttarakhand news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर