Weather Update: उत्तराखंड में कल से झूमकर बरसेगा मॉनसून, अब तक सूखे हैं कई इलाके

उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह भी मानते हैं कि मॉनसून आने के बाद पूरे प्रदेश में अच्छी बारिश की आशा थी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह भी मानते हैं कि मॉनसून आने के बाद पूरे प्रदेश में अच्छी बारिश की आशा थी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सूखा सा गुज़र गया मॉनसून (Monsoon) का पहला हफ़्ता, 47% कम हुई अब तक बारिश, हरिद्वार में बरसा सिर्फ़ 7% पानी. उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र कल से पूरे प्रदेश में बारिश हो सकती है.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में मॉनसून (Monsoon) को आए एक हफ़्ते से ज़्यादा समय हो चुका है लेकिन कमाल की बात यह है कि अभी तक यह ठीक से सक्रिय नहीं हुआ है. 23 जून को मॉनसून ने उत्तराखंड में प्रवेश कर लिया था और यह माना जा रहा था कि इससे अच्छी बारिश होगी. ऐसा इसलिए भी क्योंकि मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार इस बार प्रदेश में मॉनसून 100% रहने वाला है. लेकिन अब तक कुमाऊं के कुछ इलाकों में मॉनसून की बरसात हुई है, गढ़वाल लगभग सूखा रहा है. मौसम विभाग भी यह बात स्वीकार रहा है कि आशा के अनुसार बारिश (Rain) नहीं हुई लेकिन अब शुक्रवार से मॉनसून के पूरी तरह सक्रिय होने की संभावना जता रहा है.

जून में 20% हुई बारिश 

100% मॉनसून के मौसम विभाग के पूर्वानुमान पर विश्वास कर रहे लोगों को यह जानकार हैरत हो सकती है कि मॉनसून की बारिश बुधवार, एक जुलाई तक 47% कम हुई है. एक जून से एक जुलाई की अवधि में बारिश औसत से 20% कम हुई है.



मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून के आंकड़े बताते हैं कि बागेश्वर और पिथौरागढ़ में अच्छी बारिश हुई है, बाकी ज़िलों में कम पानी बरसा है. मॉनसून आने के बाद 24 जून से एक जुलाई तक अल्मोड़ा में 27% कम रही बारिश हुई तो चमोली में 49% कम. चंपावत में 82%, देहरादून में 69%, पौड़ी में 91%, टिहरी में 78%, हरिद्वार में 93%, नैनीताल में 71%, रुद्रप्रयाग में 76%, ऊधम सिंह नगर में 25% और उत्तरकाशी में 79% बारिश औसत से कम रही है.

इसी तरह से 1 जून से 1 जुलाई 2020 तक बारिश की बात करें तो तो 20% बारिश कम हुई है. हालांकि बागेश्वर ऊधम सिंह नगर और पिथौरागढ़ में बारिश ठीक हुई है. इसके अलावा अल्मोड़ा में 18% कम, चमोली में 20%, चंपावत में 44%, देहरादून में 33%, पौड़ी में 53%, टिहरी में 10%, हरिद्वार में 38%, नैनीताल में 39%, रुद्रप्रयाग में 11 और उत्तरकाशी में 61% बारिश कम हुई है.

कल से बरसेंगे बादल 

उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह भी मानते हैं कि मॉनसून आने के बाद पूरे प्रदेश में अच्छी बारिश की आशा थी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. वह अपने पूर्वानुमान पर कायम हैं कि इस बार 100% मॉनसून रहेगा. वह कहते हैं कि अभी जो बारिश की कमी है उसकी भरपाई आने वाले समय में हो जाएगी.

इस बार अभी तक बारिश कुमाऊं क्षेत्र में ज़्यादा हुई है और गढ़वाल में मॉनसून का असर नहीं दिखा है... आगे क्या होगा? विक्रम सिंह कहते हैं कि 3 जुलाई से पूरे प्रदेश में बारिश सब जगह देखने को मिलेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज