जानिए- उल्लूओं की ‘सिक्योरिटी’ में क्यों लगा वन विभाग, कर रहा 24 घंटे चौकसी

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: October 26, 2018, 5:04 PM IST
जानिए- उल्लूओं की ‘सिक्योरिटी’ में क्यों लगा वन विभाग, कर रहा 24 घंटे चौकसी
File Photo

प्रकाश पर्व दीपावली में लोग धन की देवी मां लक्ष्मी की पूजा करते हैं. लेकिन इसी पर्व पर मां लक्ष्मी के वाहन उल्लू की जान पर भी बन आती है.

  • Share this:
प्रकाश पर्व दीपावली के नजदीक आते ही वन विभाग सतर्क हो गया है. पूरे प्रदेश में वन विभाग ने उल्लुओं को लेकर अलर्ट जारी कर दिया है. दीपावली त्योहार के समय उल्लुओं की जान खतरे में आ जाती है. धन की देवी को प्रसन्न करने के लिए और तांत्रिक सिद्धियां हासिल करने के लिए उल्लू की बलि दी जाती है.

प्रकाश पर्व दीपावली में लोग धन की देवी मां लक्ष्मी की पूजा करते हैं, लेकिन इसी पर्व पर मां लक्ष्मी के वाहन उल्लू की जान पर भी बन आती है. अंधविश्वास है कि दीपावली की रात तंत्र-मंत्र और यंत्र साधनाओं के लिए विशेष फलदायी होती है. यही मान्यता इस निरीह जीव पर भारी पड़ जाती है.

मान्यता है कि उल्लू का पैर धनस्‍थान अथवा तिजोरी में रखने से समृद्धि आती है. वहीं आंखें सम्मोहित करने में सक्षम होती हैं. चोंच इंसान के लिए मारन क्रिया में काम आती है. इसी वजह से दीपावली के आसपास उल्लूओं की तस्करी चरम पर पहुंच जाती है. वन विभाग के लिए यही परेशानी का सबब बन गया है. पहले ही सीबीआई जांच से लेकर हाथी दांत तस्करी का दाग लेकर घूम रहा वन विभाग अब उल्लुओं के मामलों में कोई लापरवाही नहीं बरतना चाहता है.

उत्तराखंड में राजाजी टाइगर रिजर्व, कार्बेट नेशनल पार्क, हरिद्वार, रामनगर कोटद्वार में विशेष तौर पर एलर्ट जारी किया गया है. देहरादून जू में रखे गए उल्लुओं की 24 घंटे चौकसी की जा रही है. अंधविश्वास और तंत्र विद्या की इन्हीं प्रचलित मान्यताओं के चलते रात के पहरेदार इस कुशल शिकारी पर अमावस्या की काली रात भारी पड़ जाती है.

बता दें कि वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत उल्लू संरक्षित प्रजाति का पक्षी है. इसकी तस्करी में पकड़े जाने पर 3 वर्ष या उससे अधिक समय तक के लिए जेल भेजे जाने का कानून है.

ये भी पढ़ें - निकाय चुनाव: आईटी सेल ने संभाली कमान, सोशल मीडिया पर जंग शुरू 

ये भी पढ़ें - राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड दीपावली से पहले व बाद करेगा ध्वनि व वायु प्रदूषण की जांच

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2018, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...