लाइव टीवी

फॉरेस्ट गार्ड भर्ती: विवादों के साथ शुरू हुई परीक्षा का विवादों के साथ ही हुआ पटाक्षेप
Dehradun News in Hindi

Sunil Navprabhat | News18 Uttarakhand
Updated: February 20, 2020, 6:57 PM IST
फॉरेस्ट गार्ड भर्ती: विवादों के साथ शुरू हुई परीक्षा का विवादों के साथ ही हुआ पटाक्षेप
सोलह फरवरी को उत्तराखंड के सभी 13 जिलों में 376 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की गई फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा शुरू से ही विवादों में रही है.

विज्ञप्ति निकलने के करीब ढाई साल बाद बीती 16 फरवरी को यह परीक्षा आयोजित हुई थी.

  • Share this:
देहरादून. उत्तराखंड में पोस्ट निकलने के ढाई साल बाद फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती के लिए एग्ज़ाम तो हुए लेकिन परीक्षा समाप्त होते-होते विवादों में आ गई. इस मामले में जो खुलासे हुए उसने सबको चौंका कर रख दिया. दरअसल इस परीक्षा में संगठित तरीके से कुछ लोगों द्वारा नकल कराई गई. विज्ञप्ति निकलने के करीब ढाई साल बाद जब यह परीक्षा आयोजित हुई तो फिर विवादों में आ गई.

बता दें कि सोलह फरवरी को उत्तराखंड के सभी 13 जिलों में 376 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की गई फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती परीक्षा शुरू से ही विवादों में रही है. विवाद भी ऐसा कि देर-सबेर परीक्षा रद्द किए जाने की पूरी संभावना है. 1218 पदों के लिए शुरू की गई फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती प्रक्रिया सुस्त और बीमार हो चुके सिस्टम का एक नमूना बनकर उभरी है. आइए जानते हैं कब और क्या हुआ इस भर्ती प्रक्रिया में...

मंत्री ने लगाई रोक

उत्तराखंड में राज्य बनने के बाद पहली बार तीन अगस्त 2017 में फ़ॉरेस्ट डिपार्टमेंट में फ़ॉरेस्ट गार्ड की खाली पड़ी 1218 पोस्ट के लिए विज्ञप्ति जारी हुई है. समूह ग कैटेगरी की इस भर्ती के अलावा फ़ॉरेस्ट डिपार्टमेंट में ये अब तक की सबसे बड़ी भर्ती थी.



तीन अगस्त 2017 को अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती के लिए 1218 पदों की विज्ञप्ति जारी की. यह पहला मौका था जब यह भर्ती आयोग के ज़रिये हो रही थी. इससे पहले डीएफ़ओ स्तर पर फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती कराए जाते थे जिसमें समय-समय पर धांधली की बात सामने आती रही है. 3 अगस्त को विज्ञप्ति जारी होने के बाद 29 अगस्त को वन मंत्री ने इस भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगा दी.

यह थी आपत्ति

मंत्री को फ़ॉरेस्ट गार्ड आयु सीमा और शैक्षिक योग्यता के मानकों को लेकर आपत्ति थी. विज्ञप्ति के अनुसार कैंडिडेट की उम्र 24 साल और शैक्षिक योग्यता कृषि और विज्ञान विषयों के साथ इंटरमीडिएट होनी चाहिए. मंत्री का कहना था कि आयु सीमा बढ़ाकर 28 की जानी चाहिए और शैक्षिक योग्यता में से विज्ञान विषय हटा दिया जाए.

इसकी वजह से पूरी प्रक्रिया में आठ महीने से अधिक का समय बीत गया. अंतत: मंत्री के संशोधनों को स्वीकार करते हुए भर्ती नियमावली में संशोधन कर 28 मई, 2018 को संशेाधित विज्ञप्ति जारी कर दी गई. आवेदन की अंतिम तिथि थी जुलाई, 2018. तय समय के भीतर करीब एक लाख 56 हज़ार कैंडिडेट ने भर्ती के लिए आवेदन किया.

15 महीने फिर लटकी भर्ती

इस बीच विभाग में सालों से कार्यरत संविदाकर्मी मामला हाईकोर्ट ले गए. उनकी मांग थी कि फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती में उनका कोटा रिज़र्व किया जाए क्योंकि वे सालों से विभाग में काम कर रहे हैं. हाईकोर्ट से मामला निस्तारित हुआ तो इधर भर्ती नियमावली की एक और शर्त आड़े आ गई.

नियमावली के अनुसार पहले शारीरिक परीक्षा होगी और फिर लिखित परीक्षा. शारीरिक परीक्षा के नियम भी अजीबोगरीब थे. पुरुष अभ्यर्थियों को दस किलो वज़न के साथ दौड़ लगानी थी तो महिला अभ्यर्थियों को पांच किलो वज़न के साथ. डेढ़ लाख परीक्षार्थियों पर ये प्रयोग करने में फ़ॉरेस्ट डिपार्टमेंट के साथ ही परीक्षा कराने वाली संस्था अधीनस्थ चयन आयोग ने हाथ खड़े कर दिए.

करीब 13 महीने बाद अगस्त, 2019 में कैबिनेट ने फ़ॉरेस्ट गार्ड भर्ती नियमावली में दोबारा संशोधन कर शाररिक परीक्षा से पहले लिखित परीक्षा कराने का प्रावधान किया, तब जाकर भर्ती परीक्षा का रास्ता साफ़ हो पाया.

आखिर हुई परीक्षा

आखिरकार नियमावली में संशोधन के छह महीने बाद इसी महीने 16 फरवरी को अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने प्रदेश के 376 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा कराई लेकिन दुर्भाग्य से विवादों ने यहां भी पीछा नहीं छोड़ा. शाम होते-होते परीक्षा में नकल की बात सामने आ गई.

पुलिस ने जांच की तो रुड़की के एक कोचिंग सेंटर संचालकर मुकेश सैनी का नाम सामने आया. मुकेश सैनी ने कुछ अन्य लोगों के साथ मिलकर संगठित तरीके से नकल कराई थी. कैंडिडेट्स से लाखों रुपये लेकर ब्लूटूथ के जरिए नकल कराने की पुष्टि हुई.

इस मामले में अभी तक रुड़की में आठ और पौड़ी में तीन लोगों के खिलाफ एफ़आईआर लॉज की गई है. हरिद्वार और पौड़ी में पुलिस की दो जांच टीमें गठित की गई हैं. मुख्यमंत्री ने भी आयोग के अध्यक्ष और सचिव को तलब कर मामले की जानकारी ली लेकिन अभी तक यह साफ़ नहीं है कि इस परीक्षा का अब क्या होगा.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देहरादून से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 20, 2020, 6:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर